Tuesday, April 23, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
भिवानी: कांग्रेस प्रत्याशी श्रुति चौधरी का नामाकांन के समय जाते हुएवरिष्ठ बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने गांधीनगर में मतदान कियावोट डालने के बाद अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव बोलीं, ये चुनाव देश की दिशा तय करेगायूपी में सबसे ज्यादा सीटें गठबंधन की होंगी: अखिलेश यादवधर्मेंद्र यादव की शिकायत के बाद बदायूं में स्वामी प्रसाद मौर्य के घर पर छापेमारीBJP में शामिल हुए अभिनेता सनी देओल, पंजाब के गुरदासपुर से लड़ सकते हैं चुनावबीजेपी में शामिल होने के बाद सनी देओल ने कहा, हर वक्त काम करके दिखाऊंगापापा अटलजी के साथ जुड़े, मैं मोदी के साथ: बीजेपी में शामिल होने पर सनी देओल
Haryana

बीरेंद्र सिंह ने भेजा इस्तीफा, तो बेटे को मिला टिकट

April 15, 2019 06:19 AM

COURTESY NBT APRIL 15

बीरेंद्र सिंह ने भेजा इस्तीफा, तो बेटे को मिला टिकट


केंद्रीय इस्पात मंत्री की जिद के आगे झुकना पड़ा बीजेपी को• सीएम के मंच पर रोए पूर्व विधायक रामरतन,• कांग्रेस प्रत्याशी को बताया, दिल्ली के दलाल का दलाल 8गुड़गांव टाइम्स
हिसार लोकसभा सीट पर संभावित मुकाबले और इसके तहत आने वाले विधानसभा हलकों में वोटरों पर किसकी कितनी पकड़ पर नजर दौड़ाई जाए, तो जो तस्वीर उभरती है, उसके मुताबिक इस चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी बृजेंद्र सिंह की राह में फूल कम और कांटे ज्यादा हैं। हिसार लोकसभा सीट से कांग्रेस नेता कुलदीप बिशनोई के बेटे भव्य बिश्नोई को टिकट मिलना तय माना जा रहा है। जननायक जनता पार्टी की ओर से दुष्यंत चौटाला का मैदान में आना तय है। हिसार लोकसभा चुनाव क्षेत्र के तहत आने वाले सभी 9 हलकों में से बृजेंद्र सिंह को उचाना के अलावा अन्य हलकों में अभी तक तो गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।


फूल कम, कांटे ज्यादा
आईएएस बेटे बृजेंद्र के साथ केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह• देवेंद्र उप्पल, हिसार

 

आखिरकार भारतीय जनता पार्टी आलाकमान को केंद्रीय इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह की जिद के आगे झुकना पड़ा। रविवार को पार्टी ने उनके आईएएस बेटे बृजेंद्र सिंह को हिसार लोकसभा सीट से टिकट देने का ऐलान कर दिया। असल में बृजेंद्र को लोकसभा की टिकट दिलाने के लिए उनके पिता बीरेंद्र सिंह ने पूरी ताकत झोंक दी थी। उन्होंने मंत्री पद और राज्यसभा सांसद पद से इस्तीफा भी अमित शाह को रविवार दोपहर से पहले ही भेज दिया था। माना जा रहा है कि इस्तीफा बेटे को टिकट दिलाने के लिए पार्टी आलाकमान पर दबाव बनाने की रणनीति का ही एक हिस्सा था। यह रणनीति काम आई और उनके इस्तीफे की पेशकश के कुछ घंटों बाद ही पार्टी ने उनके बेटे को टिकट थमा दिया।

 
Have something to say? Post your comment