Tuesday, April 23, 2019
Follow us on
Haryana

करनाल में आईटीआई के छात्र की एक दिन पहले हादसे में मौत के बाद तनाव, पुलिस के देरी से पहुंचने पर बिगड़े हालात

April 13, 2019 07:22 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR APRIL 13
करनाल में आईटीआई के छात्र की एक दिन पहले हादसे में मौत के बाद तनाव, पुलिस के देरी से पहुंचने पर बिगड़े हालात

पत्थर बाजी के बाद सांस्थान से छात्रों को पकड़ कर ले जाते पुलिस कर्मी, हाथ जोड़कर प्रार्थना करते छात्र। इनसेट में पत्थर बाजों को रोकने के लिए हवाई फायर करता पुलिस कर्मी।
करनाल | छात्र निकित की मौत के बाद गुस्साए छात्रों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की। इसके बाद पुलिस ने 103 छात्रों को हिरासत में ले लिया। छात्रों को छुड़वाने के लिए अभिभावकों ने सिविल थाना का घेराव कर दिया। पुलिस ने छह छात्राओं को छोड़ दिया, लेकिन अन्य छात्राें को हिरासत में रखा। पुलिस देरी से पहुंचने का दूसरा कारण ये रहा कि इंद्री में भादसो शुगर मिल में किसान धरने पर हैं। वह भी जीटी रोड को जाम करने पर अड़े थे। इसलिए पुलिस वहां तैनात थी। पुलिस को वहां से आने तक स्थिति बिगड़ गई।
पुलिस ने कक्षाओं में बैठी छात्राओं पर लाठीचार्ज किया। इस कारण कुछ छात्राएं पेपर नहीं दे पाई। वह पुलिस जवानों के सामने हाथ जोड़ती गिड़गिड़ाती रही। रोती बिलखती छात्राओं के सामने जवानों का दिल नहीं पसीजा। उनके बैग भी संस्थान में ही छूट गए। आईटीआई से बाहर आई छात्राओं ने वहां पर खड़े लोगों से कहा अंकल पुलिस हमें मार देगी, हमें बस अड्डे तक छुड़वा दो। छात्राओं ने कहा कि मौत से बचकर आई हैं, अब पुलिस दोबारा उन पर लाठियां बरसात सकती है। वहां पर खड़े लोगों ने सात से आठ ऑटों में बिठाकर लड़कियों को बस अड्डे तक पहुंचाया।
पुलिस के सामने जो भी आया उसी पर किया लाठीचार्ज
आईटीआई के प्रिंसिपल बलवान ने बताया कि ज्यादा फोर्स आने पर पुलिस ने जो आगे आया उसी पर लाठियां भांजी। कक्षा में शांति से बैठे स्टूडेंट्स और ऑफिस में बैठे स्टाफ को पीटा गया, जो गलत है। जिन बच्चों ने यह शरारत की थी उन पर कार्रवाई करें। जो बच्चे कक्षाओं में और स्टाफ को पीटा है उन पुलिस कर्मचारियों पर भी कानूनी कार्रवाई की जाए। सीसीटीवी में कैद हुई पूरी घटना के सबूत हैं। पुलिस सीसीटीवी के सबूत मिटाने के लिए डीवीआर भी चोरी कर ले गई

 
Have something to say? Post your comment