Tuesday, March 26, 2019
Follow us on
Haryana

मीडिया प्रमाणन निगरानी समिति रखेगी पेड न्यूज और फेक न्यूज पर नजर--एफएम और टी.वी. पर जिंगल, स्पोट, स्लोट, पट्टïी, एल-बैंड इत्यादि के लिए लेनी होगी एमसीएमसी से स्वीकृति:-जिला निर्वाचन अधिकारी शरणदीप कौर बराड़

March 12, 2019 04:32 PM
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ ने कहा कि लोकसभा चुनावों को निष्पक्ष, सुचारू एवं पारदर्शी ढंग से सम्पन्न करवाने के दृष्टिïगत मीडिया प्रमाणन निगरानी समिति फेक न्यूज, पेड न्यूज और सोशल मीडिया पर विशेष नजर रखेगी और प्रतिदिन समाचार पत्रों में आने वाली विज्ञापनों की समीक्षा भी करेगी। इताना ही नहीं एफ.एम. तथा टी.वी. पर जिंगल, स्पोट, स्लोट, एल-बैंड, पट्टïी इत्यादि पर भी विशेष ध्यान देगी। इस कार्य के लिए सम्बधिंत उम्मीदवार को एमसीएमसी से परमिशन लेना अनिवार्य है। यदि कोई उम्मीदवार बिना स्वीकृति के उक्त माध्यम से प्रचार करता पाया जाता है, तो खर्चा सम्बन्धित के खाते में जोड़े जाने का प्रावधान है। जिला निर्वाचन अधिकारी शरणदीप कौर बराड़ मंगलवार को अपने कार्यालय में एम.सी.एस.सी. की बैठक में सम्बन्धित विषय पर प्रजेंटेशन देने उपरांत अधिकारियों को निर्देश दे रही थी। 
उन्होंने कहा कि एमसीएमसी का मुख्य उद्देश्य पेड व फेक न्यूज पर नजर रखने के साथ-साथ सोशल मीडिया पर ध्यान रखना भी है। इसके लिए गठित कमेटी में जिला निर्वाचन अधिकारी समिति के चेयरमैन जबकि जिला सूचना एवं जन सम्पर्क अधिकारी सदस्य सचिव होंगे। एमसीएमसी कमेटी प्रतिदिन छपने वाले समाचार पत्रों पर नजर रखने का काम करेगी। साथ ही सम्बन्धित दलों के उम्मीदवारों को जिंगल इत्यादि के लिए स्वीकृति भी प्रदान करेगी। प्रतिदिन सिटी केबल पर चलने वाले विज्ञापनों पर नजर रखना और उनका मूल्यांकन करना भी एमसीएमसी के कार्य में शामिल है। 
जानकारी के क्रम में उन्होंने यह भी बताया कि एमसीएमसी प्रतिदिन लगने वाले पेड न्यूज तथा टी.वी. व एफएम पर चलने वाले जिंगल का मूल्यांकन करेगी कि वे डीएवीपी या फिर डीआईपीआर द्वारा निर्धारित रेट पर चलाए जा रहे हैं या नहीं। मूल विषय के दृष्टिïगत किसी भी प्रकार के प्रचार के लिए एमसीएमसी से परमिशन लेनी अति अनिवार्य है। इतना ही नही मीडिया सर्टिफिकेशन प्रमाणन समिति प्रतिदिन आने वाले विज्ञापनों पर भी नजर रखेगी। यदि कोई विज्ञापन सम्बन्धित उम्मीदवार की परमिशन के बिना चलाया जाता है, तो इसके लिए सेक्सन 171एच ऑफ आईपीसी सम्बन्धित प्रकाशक उल्लंघना का जिम्मेदार माना जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि यदि कोई प्रकाशक चुनाव सम्बन्धी सामग्री छापता है तो उस पर उसका नाम और पता अंकित होना चाहिए। ऐसा न करने की स्थिति में सम्बन्धित के खिलाफ 127ए के तहत कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 
इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त कैप्टन शक्ति सिंह, सीईओ कैंटोनमैंट बोर्ड वरूण कालिया, एसडीएम कमलप्रीत कौर, एसडीएम अदिति, एसडीएम भारत भूषण कौशिक, तहसीलदार चुनाव आंचल सहित सम्बन्धित अधिकारी मौजूद थे।
बॉक्स
उन्होंने बताया कि 16 अप्रैल को अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 23 अप्रैल है जबकि नामांकन पत्रों की जांच 24 अप्रैल को होगी। नामांकन वापसी की तिथि 26 अप्रैल होगी। उन्होंने बताया कि 12 मई को मतदान होगा तथा 23 मई को मतों की गणना की जाएगी। 
बॉक्स
जानकारी के अनुसार मीडिया प्रमाणन निगरानी समिति सम्बधिंत विषय को लेकर जब किसी उम्मीदवार को नोटिस भेजती हैं तो उसे 48 घंटे में जवाब देना होता हैं और यदि वह निर्धारित समय में नोटिस का जवाब नहीं देता तो मीडिया प्रमाणन समिति का निर्णय अन्तिम समझा जाएगा। यदि कोई उम्मीदवार एमसीएमसी द्वारा लिए गए निर्णय से सहमत नहीं होता तो वह जिला एमसीएमसी द्वारा लिए गए निर्णय की प्रति मिलने के 48 घंटे के अन्दर राज्य स्तरीय मीडिया प्रमाणन निगरानी समिति में अपील कर सकता हैं। स्टेट एमसीएमसी द्वारा प्राप्ति के 96 घंटों के अन्दर-अन्दर निर्णय देने का प्रावधान हैं। 
 
Have something to say? Post your comment