Friday, April 19, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
कल जेजेपी-आप गठबंधन के दो प्रत्याशी भरेंगे अपना नामांकन डॉ. अजय चौटाला की मौजूदगी में दुष्यंत चौटाला और निर्मल सिंह दाखिल करेंगे नामांकन पत्रइनेलो ने तीन लोकसभा प्रत्याशियों की घोषणा की, गुरुग्राम का फैसला जल्द हीउत्तर प्रदेशः कानपुर में प्रियंका गांधी वाड्रा का रोड शो रोहित शेखर की पत्नी बोलीं- पुलिस ने अभी पोस्टमार्टम की जानकारी नहीं दी मायावती और अखिलेश फिरोजाबाद में कल संयुक्त रैली को करेंगे संबोधितप्रियंका चतुर्वेदी का कांग्रेस पार्टी छोड़ना दुखदः सुरजेवाला कर्नाटकः राहुल बोले- नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और अनिल अंबानी से वसूलेंगे पैसा साध्वी प्रज्ञा का शहीद हेमंत करकरे पर बयान पार्टी की राय नहीं: बीजेपी
Education

दीपालय स्कूल घुसपैठि के छात्रों ने वार्षिक दिवस समारोह के दौरान दिया एक सामाजिक संदेश

February 12, 2019 10:09 AM

दीपालय स्कूल घुसपैठि का एनुअल डे (वार्षिक दिवस) समारोह स्कूल परिसर में बड़े उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया गया।
समारोह की शुरुआत गणमान्य लोगों द्वारा दीपक प्रज्ज्वलन के साथ हुई। छात्रों के एक समूह ने स्वागत नृत्य किया। इसके बाद, दीपालय स्कूल घुसपैठि के प्रधानाचार्य श्री मनोज कुमार ने स्कूल की वार्षिक रिपोर्ट पेश की, जिसमें पिछले वर्ष की उपलब्धियों को बताया।
प्रोफेसर मोहम्मद असलम, पूर्व वाईस चांसलर, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (IGNOU), जो मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे, ने हरियाणा के सबसे पिछड़े क्षेत्र में शिक्षा के प्रसार में दीपालय के प्रयासों की सराहना की। नेल्सन मंडेला के शब्दों का हवाला देते हुए, प्रो. असलम ने दोहराया कि शिक्षा राष्ट्र और दुनिया को बदलने के लिए सबसे शक्तिशाली हथियार है।
इल्मा अफ़रोज़, आईपीएस इस अवसर पर सम्मानीय अतिथि के रूप में उपस्थित हुए; उनहोने उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गाँव से ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय तक पहुंचने की अपनी प्रेरणादायक कहानी साझा की, और फिर बताया की कैसे वो अपनी मातृभूमि की सेवा करने के लिए वापस भारत आ गई। उन्होंने बच्चों को देश के विकास के लिए आईपीएस और अन्य सिविल सर्विस कर्मियों के महत्व के बारे में भी बताया, जिससे उन्हें अपने करियर के बारे में प्रेरणा मिली। उन्होंने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सबको, विशेषकर माताओं, को आगे आने के लिए भी प्रेरित किया।
कार्यक्रम "माताओं को श्रद्धांजलि" के थीम पर आधारित था। इस विषय पर विचार प्रकट करते हुए छात्रों ने एक संगीत-नृत्य नाटक का प्रदर्शन किया। नाटक में दिखाया कि माताएँ अपने बच्चों को शिक्षित करने और उनकी परवरिश करने के लिए कैसे जी जान से मेहनत करती है, कैसे वे अपने बच्चों के साथ एक प्यार और सुरक्षा का बंधन का निर्माण करती हैं, फिर भी बच्चे अक्सर बड़े होने के साथ-साथ अपनी माताओं का योगदान भूल जाते हैं और उनकी उपेक्षा करते हैं। यह नाटक एक दिलचस्प संदेश के साथ समाप्त हुआ कि अगर आप अपने प्रियजनों के प्रति अपमानजनक तरीके से पेश आओ तो ज़िन्दगी आपको कड़वाहट वापस महसूस कराती है।
श्री ए जे फिलिप, सचिव और मुख्य कार्यकारी, दीपालय व स्कूल के चेयरमैन ने इस अवसर पर उपस्थित अतिथियों का आभार व्यक्त किया। अपने भाषण में, श्री फिलिप ने इस स्कूल को जिले के सबसे बेहतरीन स्कूल बनाने के सपने के बारे में बताया।
दीपालय की ओर से, श्रीमती जसवंत कौर, कार्यकारी निदेशक; श्री कुरियन बेहान, मैनेजर एडमिनिस्ट्रेशन; श्री अजय गुप्ता; श्री ब्रजेश पाठक भी उपस्थित थे। मुख्य अतिथि और सम्मानीय अतिथि के साथ, उन्होंने पिछले साल भर में विभिन्न शीर्षों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए स्कूल के 120 से अधिक छात्रों को पुरस्कार दिए।
कुछ माता-पिता व दादा दादियो ने बताया की कैसे दीपलय ने उनके बच्चों को शिक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, और संगठन के सामुदायिक कार्यकर्ताओं ने क्षेत्र में सकारात्मक सामाजिक परिवर्तन के लिए सराहनीय कार्य किये है।

यह समारोह विद्यालय के एक छात्र द्वारा धन्यवाद के साथ संपन्न हुआ। इसके बाद राष्ट्रगान गाया गया।
दीपालय स्कूल घुसपैठि के बारे में
दीपालय गैर सरकारी संगठन के दो औपचारिक विद्यालयों में से एक, दीपालय स्कूल घुसपैठि मेवात (वर्तमान में नूंह जिला) के जाने माने स्कूलों में से एक है। यह विद्यालय हरियाणा बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (HBSE) द्वारा मान्यता प्राप्त है, और LKG से Xth तक कक्षाएं चलाता है। यह विद्यालय ग्रामीण हरयाणा के एक पिछड़े इलाके में स्थित है, और इस समय लगभग 1200 छात्रों को शिक्षा प्रदान करता है।
दीपालय के बारे में
दीपालय एक आईएसओ 9001:2008 प्रमाणित गैर-सरकारी संगठन है जो आत्मनिर्भरता को सक्षम करने में विश्वास करता है और महिलाओं और बच्चों पर विशेष ध्यान देने के साथ शहरी और ग्रामीण गरीबों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।
यह गैर-सरकारी संगठन 16 जुलाई, 1979 को सात संस्थापक सदस्यों द्वारा शुरू किया गया था और तीन से अधिक दशकों से निरक्षरता के विरूद्ध धर्मयुद्ध में योगदान दे रहा है। वर्षों से दीपालय ने शिक्षा (औपचारिक/गैर-औपचारिक/उपचारात्मक), महिला सशक्तिकरण (प्रजनन स्वास्थ्य, एसएचजी, माइक्रो-फाइनेंस), संस्थागत देखभाल, सामुदायिक स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण आदि के क्षेत्रों में कई परियोजनाएं चलायी हैं। हमारी परियोजनाएं दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, और तेलांगना में चल रही हैं।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Education News
इंजीनियरिंग के लिए स्कॉलरशिप टैस्ट 28 अप्रैल को
अम्बाला कालेज आफ इंजीनियरिंग में ज्वांयट कैंपस प्लेसमेंट ड्राइव आयोजित
हसमुख अधिया गुजरात केंद्रीय विश्वविद्यालय के चांसलर नियुक्त किए गए यूपी बोर्ड इंटर- हाईस्कूल परीक्षा आज से, 25 अप्रैल तक रिजल्‍ट की उम्‍मीद रजनीकांत ने तमिलनाडु के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष थिरुनावुकारसु से मुलाकात की हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी में 32 कर्मचारियों एवं अधिकारियों की पदोन्नति की गई है जिसमें एक अधिकारी को उप सचिव, 5 सहायक सचिव, 22 अधीक्षक एवं तीन को क्लर्क पद पर पदोन्नत किया गया
पी के आर स्कूल में एकाग्रता व स्मरण शक्ति बढ़ाने हेतु छात्रों के लिए लगाया प्रशिक्षण शिविर
सरकारी स्कूलों में एक से 15 जनवरी तक रहेगी छुट्टियां, आदेश जारी
परिवर्तन स्पेशल स्कूल (पीओ आरडीएसी) सफदरजंग एन्क्लेव में बच्चों के लिए खेल आयोजित किया
अम्बाला के मुरलीधर डीएवी स्कूल के तीन बच्चों ने इंस्पायर अवार्ड स्कीम के अन्तर्गत जीता 30000 रुपये का नकद पुरस्कार