Friday, June 05, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
प्रकाश जावडेकरः भारत दुनिया की 8% जैव विविधता का संरक्षण करने में सक्षम, यह बड़ी उपलब्धिमहाराष्ट्र में 4 और पुलिसकर्मियों को कोरोना, राज्य में अब तक 2,561 पुलिसकर्मी संक्रमितहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल अपने निवास पर कोरोना को लेकर अधिकारियों के साथ कर रहे हैं मीटिंगदिल्लीः कोरोना मरीजों के लिए रेलवे के 10 कोच को आइसोलेशन वार्ड में किया तब्दीलउत्तराखंड और हरियाणा के कुछ इलाकों में अगले दो घंटे में बारिश के आसारJK: राजौरी में कल रात सुरक्षा बलों के साथ एनकाउंटर में एक आतंकी मारा गयाकर्नाटक में आए भूकंप की तीव्रता 4.0 तो झारखंड में 4.7 तीव्रता रहीUP: बिजनौर और हाथरस के आसपास के क्षेत्रों में अगले 2 घंटे में तूफान-बारिश की चेतावनी
Education

दीपालय स्कूल घुसपैठि के छात्रों ने वार्षिक दिवस समारोह के दौरान दिया एक सामाजिक संदेश

February 12, 2019 10:09 AM

दीपालय स्कूल घुसपैठि का एनुअल डे (वार्षिक दिवस) समारोह स्कूल परिसर में बड़े उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया गया।
समारोह की शुरुआत गणमान्य लोगों द्वारा दीपक प्रज्ज्वलन के साथ हुई। छात्रों के एक समूह ने स्वागत नृत्य किया। इसके बाद, दीपालय स्कूल घुसपैठि के प्रधानाचार्य श्री मनोज कुमार ने स्कूल की वार्षिक रिपोर्ट पेश की, जिसमें पिछले वर्ष की उपलब्धियों को बताया।
प्रोफेसर मोहम्मद असलम, पूर्व वाईस चांसलर, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (IGNOU), जो मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे, ने हरियाणा के सबसे पिछड़े क्षेत्र में शिक्षा के प्रसार में दीपालय के प्रयासों की सराहना की। नेल्सन मंडेला के शब्दों का हवाला देते हुए, प्रो. असलम ने दोहराया कि शिक्षा राष्ट्र और दुनिया को बदलने के लिए सबसे शक्तिशाली हथियार है।
इल्मा अफ़रोज़, आईपीएस इस अवसर पर सम्मानीय अतिथि के रूप में उपस्थित हुए; उनहोने उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गाँव से ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय तक पहुंचने की अपनी प्रेरणादायक कहानी साझा की, और फिर बताया की कैसे वो अपनी मातृभूमि की सेवा करने के लिए वापस भारत आ गई। उन्होंने बच्चों को देश के विकास के लिए आईपीएस और अन्य सिविल सर्विस कर्मियों के महत्व के बारे में भी बताया, जिससे उन्हें अपने करियर के बारे में प्रेरणा मिली। उन्होंने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सबको, विशेषकर माताओं, को आगे आने के लिए भी प्रेरित किया।
कार्यक्रम "माताओं को श्रद्धांजलि" के थीम पर आधारित था। इस विषय पर विचार प्रकट करते हुए छात्रों ने एक संगीत-नृत्य नाटक का प्रदर्शन किया। नाटक में दिखाया कि माताएँ अपने बच्चों को शिक्षित करने और उनकी परवरिश करने के लिए कैसे जी जान से मेहनत करती है, कैसे वे अपने बच्चों के साथ एक प्यार और सुरक्षा का बंधन का निर्माण करती हैं, फिर भी बच्चे अक्सर बड़े होने के साथ-साथ अपनी माताओं का योगदान भूल जाते हैं और उनकी उपेक्षा करते हैं। यह नाटक एक दिलचस्प संदेश के साथ समाप्त हुआ कि अगर आप अपने प्रियजनों के प्रति अपमानजनक तरीके से पेश आओ तो ज़िन्दगी आपको कड़वाहट वापस महसूस कराती है।
श्री ए जे फिलिप, सचिव और मुख्य कार्यकारी, दीपालय व स्कूल के चेयरमैन ने इस अवसर पर उपस्थित अतिथियों का आभार व्यक्त किया। अपने भाषण में, श्री फिलिप ने इस स्कूल को जिले के सबसे बेहतरीन स्कूल बनाने के सपने के बारे में बताया।
दीपालय की ओर से, श्रीमती जसवंत कौर, कार्यकारी निदेशक; श्री कुरियन बेहान, मैनेजर एडमिनिस्ट्रेशन; श्री अजय गुप्ता; श्री ब्रजेश पाठक भी उपस्थित थे। मुख्य अतिथि और सम्मानीय अतिथि के साथ, उन्होंने पिछले साल भर में विभिन्न शीर्षों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए स्कूल के 120 से अधिक छात्रों को पुरस्कार दिए।
कुछ माता-पिता व दादा दादियो ने बताया की कैसे दीपलय ने उनके बच्चों को शिक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, और संगठन के सामुदायिक कार्यकर्ताओं ने क्षेत्र में सकारात्मक सामाजिक परिवर्तन के लिए सराहनीय कार्य किये है।

यह समारोह विद्यालय के एक छात्र द्वारा धन्यवाद के साथ संपन्न हुआ। इसके बाद राष्ट्रगान गाया गया।
दीपालय स्कूल घुसपैठि के बारे में
दीपालय गैर सरकारी संगठन के दो औपचारिक विद्यालयों में से एक, दीपालय स्कूल घुसपैठि मेवात (वर्तमान में नूंह जिला) के जाने माने स्कूलों में से एक है। यह विद्यालय हरियाणा बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (HBSE) द्वारा मान्यता प्राप्त है, और LKG से Xth तक कक्षाएं चलाता है। यह विद्यालय ग्रामीण हरयाणा के एक पिछड़े इलाके में स्थित है, और इस समय लगभग 1200 छात्रों को शिक्षा प्रदान करता है।
दीपालय के बारे में
दीपालय एक आईएसओ 9001:2008 प्रमाणित गैर-सरकारी संगठन है जो आत्मनिर्भरता को सक्षम करने में विश्वास करता है और महिलाओं और बच्चों पर विशेष ध्यान देने के साथ शहरी और ग्रामीण गरीबों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।
यह गैर-सरकारी संगठन 16 जुलाई, 1979 को सात संस्थापक सदस्यों द्वारा शुरू किया गया था और तीन से अधिक दशकों से निरक्षरता के विरूद्ध धर्मयुद्ध में योगदान दे रहा है। वर्षों से दीपालय ने शिक्षा (औपचारिक/गैर-औपचारिक/उपचारात्मक), महिला सशक्तिकरण (प्रजनन स्वास्थ्य, एसएचजी, माइक्रो-फाइनेंस), संस्थागत देखभाल, सामुदायिक स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण आदि के क्षेत्रों में कई परियोजनाएं चलायी हैं। हमारी परियोजनाएं दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, और तेलांगना में चल रही हैं।

Have something to say? Post your comment
 
More Education News
CBSE बोर्डः देश के 15000 केंद्रों पर होगी 10वीं और 12वीं की शेष परीक्षा- रमेश पोखरियाल निशंक CBSE Board: आज 5 बजे जारी होगी 10वीं-12वीं के बचे एग्जाम्स की डेटशीट सीबीएसई:10वीं-12वीं बोर्ड की बाकी परीक्षाएं 1 से 15 जुलाई के बीच होंगी हरियाणा:20 मई तक घोषित होगा 10वीं का रिजल्ट, सोशल डिस्टेंस की वजह से मई में नहीं खुलेंगे स्कूल 3 मई को की जाएगी UPSE की परीक्षाओं की घोषित होगी हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी निजी व सरकारी स्कूलों के अध्यापकों को ‘आरोग्य-सेतु एप’ डाऊनलोड करने के निर्देश दिए कोरोना वायरस के कारण 23 IIT में एडमिशन के लिए होने वाली JEE एडवांस परीक्षा स्थगित कोरोना के चलते देशभर में NEET, JEE की परीक्षा टाली गई सीबीएसई ने पेपर लीक होने की अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाने की गुजारिश की हरियाणा के उच्चतर शिक्षा विभाग ने राज्य के महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों में‘स्टूडेंट लिटरेचर फैस्टिवल’ आयोजित करने का निर्णय लिया