Wednesday, February 20, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
लाखों रुपये की तीन किलोग्राम अफीम के साथ तथा अन्तराज्जीय मोटर साईकल गिरोह के साथ दो-दो युवक गिरफ्तार भारत में 100 बिलियन डॉलर का निवेश करेगा सऊदी अरब: विदेश मंत्रालयश्रीनगर: बीएसएफ ने 20 कश्मीरी छात्रों को 6 दिवसीय भारत दर्शन यात्रा पर भेजाकांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कुमार आशीष की नियुक्ति रद्द कीहिमाचल प्रदेश: किन्नौर के नामग्या में हिमस्खलन, फंसे 5 जवान, एक की मौतजयपुरः जेल में अन्य कैदियों ने की पाकिस्तानी कैदी की हत्यासुप्रीम कोर्ट में 26 फरवरी को होगी अयोध्या केस की सुनवाईपुलवामा आतंकी हमला: पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ लुधियाना में लगाए गए पोस्टर्स
National

दिल्ली में 20 हजार करोड़ के हवाला और मनी लॉन्ड्रिंग रैकेट का पर्दाफाश आयकर विभाग ने दबोचे तीन गिरोह, आरोपियों की पहचान नहीं बताई

February 12, 2019 05:31 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR FEB 12

दिल्ली में 20 हजार करोड़ के हवाला और मनी लॉन्ड्रिंग रैकेट का पर्दाफाश
आयकर विभाग ने दबोचे तीन गिरोह, आरोपियों की पहचान नहीं बताई
छापे में 18 हजार करोड़ रुपए के फर्जी बिल मिले

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने सोमवार को हवाला कारोबार के बड़े गिरोह का भंडाफोड़ करने का दावा किया। यह गिरोह दिल्ली में करीब 20 हजार करोड़ रुपए का मनी लॉन्ड्रिंग रैकेट चला रहा था। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि पुरानी दिल्ली के विभिन्न कारोबारी क्षेत्रों में कुछ हफ्तों के दौरान छापे मारे गए थे। इसमें हवाला कारोबार के तीन गिरोह का पता चला। हालांकि, उन्होंने आरोपियों की पहचान नहीं बताई। एक अधिकारी ने कहा कि नया बाजार इलाके में सर्वे में 18 हजार करोड़ रुपए के फर्जी बिल मिले। कई फर्जी इकाइयों के जरिए ये बिल उपलब्ध कराए जा रहे थे।
बड़ी कंपनियों के शेयर पुराने बताकर बेच रहे थे
दूसरे मामले में एक बेहद संगठित मनीलॉन्ड्रिंग गिरोह का पता चला। ये लोग बड़ी कंपनियों के शेयरों को धोखाधड़ी के जरिए वर्षों से रखे गए पुराने शेयर बताकर बेच रहे थे। इस तरीके से लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स का फर्जी दावा कर रहे थे। अनुमान है कि इस तरीके से एक हजार करोड़ रुपए से अधिक का घोटाला किया गया। तीसरे गिरोह के पास अघोषित विदेशी बैंक खाता पाया गया। यह निर्यात का कीमत से अधिक बिल बनाकर जीएसटी के तहत फर्जी रिफंड दावा करते थे। शुरुआती अनुमान के अनुसार ये फर्जी निर्यात 1,500 करोड़ रुपए से अधिक के हैं।
लोगों को विदेश यात्रा कराने के सबूत भी मिले
जांच दल को करीब 100 करोड़ रुपये के हस्ताक्षर किए गए और बगैर हस्ताक्षर के दस्तावेज, समझौते, अनुबंध, नकदी कर्ज और उसपर अर्जित ब्याज, वित्तीय विवादों का नकद के बदले निस्तारण और इनके एवज में पैसे लेने की रसीदें आदि मिलीं हैं। अधिकारी ने कहा, तीसरे मामले की जांच में विदेश में लोगों को विदेशी यात्रा कराने और विदेशी मुद्रा उपलब्ध कराने के भी सबूत मिले हैं।

Have something to say? Post your comment