Friday, April 26, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अमित शाह की हरियाणा में ताबड़ तोड़ 2 दिन में 6 रैलियांहरियाणा सरकार ने 2018 बैच के 4 आईएएस अधिकारियों को ट्रेनिग पीरियड में जिलों में नियुक्ति कीहरियाणा पुलिस द्वारा अति वांिछंत अपराधियो के विरूद्व कार्यवाही28 साल पुराने ड्रग-पेडलिंग केस में आरोपी गिरफतार एसटीएफ ने सिरसा से किया काबूक्षेत्रवाद की राजनीति और भाईचारा खराब करने वालों को सबक सिखाना जरूरी- दिग्विजयमायके में दुष्यंत के लिए वोट मांगने पहुंची विधायक नैना चौटालाभाजपा राज में संविधान को बड़ा खतरा:हुड्डा हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों पर 12 मई, 2019 को होने वाले मतदान के बाद उन मीडिया संस्थानों जिन्होंने चुनावों के दौरान स्वीप गतिविधियों की अच्छी कवरेज की है, उन्हें सम्मानित किया जाएगा।
Punjab

70 वें गणतंत्र दिवस पर पंजाब सरकार के विज्ञापन में भारतीय संविधान की प्रस्तावना में दो शब्द नदारद

January 26, 2019 01:53 PM

चंडीगढ़- आज 26 जनवरी को भारत वर्ष के 70 वें गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य पर समाचार पत्रों में केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों एवं सभी राज्यों सरकारों द्वारा आधिकारिक विज्ञापन जारी कर देश के नागरिको को इस अवसर पर  शुभकामनाये प्रदान की जाती हैं. इसी कड़ी में आज पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार द्वारा समाचार पत्रों में  अपना सरकारी विज्ञापन जारी किया गया है जिसमे मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के अलावा भारतीय संविधान की प्रस्तावना की प्रतिकृति भी प्रकाशित की गयी है. पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने बताया की उक्त =भारतीय संविधान की प्रस्तावना की प्रतिकृति में  दो शब्द - सोशलिस्ट (समाजवादी) एवं सेक्युलर (पंथ-निरपेक्ष) नदारद है. अब यह त्रुटि भूलवश हो गयी है या जानबूझ कर की गयी है, यह देखने लायक होगा. हेमंत ने आज सुबह ही मुख्यमंत्री पंजाब एवं उनके मीडिया एडवाइजर के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट कर उक्त मामला उनके प्रकाश में लाया है. उन्होंने  बताया कि उक्त दो शब्द वर्ष 1976 में 42 वें संविधान संशोधन अधिनियम द्वारा भारतीय संविधान में जोड़े  गए थे जिन्हे 3 जनवरी 1977 से लागू भी कर दिया गया था. अब आज इसके 42 वर्ष उपरांत अगर पंजाब सरकार के सरकारी विज्ञापन में भारतीय संविधान की प्रस्तावना की प्रतिकृति में  यह दो शब्द नहीं सम्मिलित किये जाते, तो यह निश्चय ही जांच का विषय है. हेमंत ने बताया कि कुछ वर्ष पूर्व जब मोदी सरकार के कानून एवं न्याय मंत्रालय द्वारा जारी एक सरकारी विज्ञापन में ऐसी ही  त्रुटि पायी गयी थी, तो कांग्रेस पार्टी ने इस मुद्दे पर काफी हाय-तौबा मचाई थी एवं भाजपा सरकार पर संविधान से छेड़-छाड़ करने तक का आरोप लगाया था जिसके बाद केंद्र सरकार की ओर से स्पष्टीकरण जारी किया गया था कि जारी किये  विज्ञापन में भारतीय संविधान की प्रस्तावना की मूल रूप  की  प्रति प्रकाशित हो गयी है और चूँकि संविधान के मूल रूप में यह दो शब्द शामिल नहीं थे, अत: उस विज्ञापन में यह नदारद थे. बहरहाल, अब चूँकि ऐसी  ही चूक, पंजाब की कांग्रेस सरकार से, चाहे किसी भी कारणवश , हो गयी है, अब यह देखने लायक होगा कि अमरिंदर सरकार इस पर क्या स्पष्टीकरण जारी करती है अथवा नहीं ?

 
Have something to say? Post your comment