Friday, April 26, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अमित शाह की हरियाणा में ताबड़ तोड़ 2 दिन में 6 रैलियांहरियाणा सरकार ने 2018 बैच के 4 आईएएस अधिकारियों को ट्रेनिग पीरियड में जिलों में नियुक्ति कीहरियाणा पुलिस द्वारा अति वांिछंत अपराधियो के विरूद्व कार्यवाही28 साल पुराने ड्रग-पेडलिंग केस में आरोपी गिरफतार एसटीएफ ने सिरसा से किया काबूक्षेत्रवाद की राजनीति और भाईचारा खराब करने वालों को सबक सिखाना जरूरी- दिग्विजयमायके में दुष्यंत के लिए वोट मांगने पहुंची विधायक नैना चौटालाभाजपा राज में संविधान को बड़ा खतरा:हुड्डा हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों पर 12 मई, 2019 को होने वाले मतदान के बाद उन मीडिया संस्थानों जिन्होंने चुनावों के दौरान स्वीप गतिविधियों की अच्छी कवरेज की है, उन्हें सम्मानित किया जाएगा।
Punjab

जीरकपुर-शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर नगर परिषद नहीं कर रही काम

January 24, 2019 05:06 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JAN 24

शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर नगर परिषद नहीं कर रही काम
लोकल बॉडीज मंत्री के पास मसला उठाने पर भी नहीं हटी झुग्गियां
शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर दो साल पहले जो काम किया गया था, उसका कोई रिजल्ट नजर नहीं आ रहा है। स्लम फ्री बनाना तो दूर की बात, शहर में मनमर्जी से यहां-वहां बनाई जा रही झुग्गियाें व अवैध कब्जों को हटाने का काम भी नहीं किया जा रहा है।
आलम यह है कि इस समय जीरकपुर में 5 हजार से ज्यादा झुग्गियां हैं, जिनको हटाने के लिए एमसी कोई काम नहीं कर रही है। इन झुग्गियों से परेशान होकर लोग लोकल बाॅडीज विभाग के अधिकारियों, यहां तक कि मंत्री से भी मिल चुके हैं पर उसके बाद भी कोई रिजल्ट नहीं आ रहा है।
कई मीटिंग्स और सर्वे का नतीजा भी जीरो: शहर को स्लम फ्री बनाने के लिए कई बार एमसी अधिकारियों की मीटिंग हुई। इसको लेकर सर्वे भी हुआ। यह भी तय किया गया कि स्लम फ्री बनाने के लिए नगर परिषद कई जगहों पर ईडब्ल्यूएस फ्लैट्स बनाएगी। इस काम के लिए जमीन लोकेट करने का दावा जरूरत किया गया पर इस पर काम नहीं किया गया। एमसी के अधिकारियों ने दावा किया था कि जो शहर में अब तक अपार्टमेंट्स बने हैं, उनके अंदर बनने वाले फ्लैट्स और ईडब्ल्यूएस फ्लैट्स के नियमों में बदलाव किया गया है। इस संबंध में अगर कोई बिल्डर अपने प्रोजेक्ट में ईडब्ल्यूएस फ्लैट नहीं दे रहा है तो उससे नगर परिषद ईडब्ल्यूएस फ्लैट बनाने के लिए कीमत वसूलेगी। बिल्डर से इसके लिए कितना पैसा लिया जाएगा, यह प्रति वर्ग फुट के हिसाब से तय किया गया है। इससे शहर को स्लम फ्री बनाने में बड़ी मदद मिलेगी।
खेतों से हटानी होंगी झुग्गियां: शहर के बड़े हिस्से में खेती योग्य जमीनों पर झुग्गियां बसाई गई हैं। हर झुग्गी से करीब 1500 रुपए किराया वसूला जाता है। पीरमुछल्ला, किशनपुरा, ढकोली, पटियाला रोड व शहर के अन्य हिस्सों में झुग्गियों की भरमार है। जो यहां का माहौल भी खराब कर रहे हैं।
प्रशासन को करनी चाहिए कार्रवाई: ढकोली के रमेश शर्मा का कहना है कि ढकोली में जो माहौल बना है, उसमें रहना हमारे लिए बेहद मुश्किल है। यहां हजारों की संख्या में झुग्गियां बनी हैं। इन पर कार्रवाई नहीं होती। एक के बाद एक झुग्गी बन रही है। यह प्रशासन को सोचना चाहिए कि इसी तरह अगर शहर में झुग्गियां बनती रही तो यहां का माहौल किस तरह का होगा। जो लोग शांति से जीना चाहते हैं, वे इस माहौल में रह नहीं पाएंगे। झुग्गियों को लेकर प्रशासन को काम करना चाहिए। एमसी प्रधान कुलविंदर सोही का कहना है कि जीरकपुर एमसी इस काम को लेकर सर्वे कर चुकी है। कहां झुग्गियां हैं, उसकी निशानदेही कर कार्रवाई की जाएगी।

 
Have something to say? Post your comment