Tuesday, August 20, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अनुभव अग्रवाल द्वारा मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा का भव्य स्वागतसत्यदेव नारायण आर्य ने आज साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने वाले 27 संस्कृत साहित्यकारों को 28.86 लाख रूपए की पुरस्कार राशि एवं विभिन्न अलंकरणों से सम्मानित कियाराम बिलास शर्मा 21 अगस्त को इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट(आईएचएम), पानीपत के नए परिसर का उद्घाटन करेंगेमुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची कांगथलीमुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची चीकामुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची भागलउत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत ने उत्तरकाशी में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा कियागोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे 91 किमी. लंबा होगा, खर्च होंगे 321 करोड़ रुपए
 
Haryana

औरत का सम्मान करें - डा. केपी सिंह

January 18, 2019 07:45 PM

मधूबन-18 जनवरी - औरत को प्यार करो और सम्मान दो, उसमें बेबसी ढंूढने की बजाय, शक्ति, प्रेरणा तथा मानसिक नैतिकता ढंूढने का प्रयास करो, अपने को स्त्री से श्रेष्ठ होने के सारे विचार निकाल दों क्योंकि तुम उससे श्रेष्ठ नहीं हो। दार्शनिक जोजेफ मजिनी के इस कथन हरियाणा मानवाधिकारा आयोग के महानिदेशक डा. केपी सिंह ने आज अकादमी में एक प्रशिक्षण कार्यक्रम में उदृत करते हुए पुलिसकर्मियों को जेंडर सेंसीटाइजेशन विषय पर जागरूक किया। डा. सिंह कार्यक्रम के समापन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे।
डा. सिंह ने अपने संबोधन में कानून लागू करने में जेंडर पूर्वाग्रह विषय पर अपने विचार रखते हुए कहा कि भारत के संविधान में महिलाओं को बराबरी का हक दिया है । इसके लिए कानूनी प्रावधान भी किए गए हैं लेकिन कानून को लागू करने और महिलाओं को उनका हक दिलाने में व्यवस्था भी पक्षपात करती है। उन्होंने कहा कि नारी सृजननी है और बहुत ही मजबूरी में कोई अपराध करती है परंतु अपराध न्याय प्रक्रिया में मजबूरी के लिए भी उसी दंड का प्रावधान है जैसा की पुरुष के लिए। कानून पुरुषों द्वारा पुुरुषों को ध्यान में रखते हुए बनाए गए थे। महिला के हितों और उनकी परिस्थियों को इन कानूनों ध्यान में नहीं रखा गया इसलिए ये कानून आज भी औरत के लिए न्याय प्रदान करनें में उस तरह से कारगर नहीं जैसे की होने चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें देखना चाहिए कि हम कानून को लागू करने में पक्षपात को कैसे दूर कर सकें। उन्होंने हेनरी आइसबन के कथन का उल्लेख करते हुए कहा कि औरतें आज भी पुरुषों द्वारा बनाए कानूनों से आंकी जाती हैं। उन्होंने पुलिस न्यायालय और जेल में महिलओं के प्रति पूर्वाग्रही व्यवहार को दूर करने के लिए और महिलाओं को न्याय व सम्मान प्रदान करने के लिए सुझाव देते हुए कहा कि जब महिलाओं की अपराध करने की परिस्थिति पुरुषों से अलग है तो उनके लिए भारतीय दंड संहिता व दंड प्रक्रिया संहिता भी अलग से बनाई जाए। महिला अपराधियों के लिए बच्चों की तरह ही अलग से अभियोजन प्रक्रिया हो, न्यायालय हों। महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों की विवेचना के अलग से एजेंसी हो। इसके साथ पुलिस में और अधिक महिलाओं को शामिल किया जाए और उन्हें और अधिक जिम्मेदारियां भी दी जाएं। जो महिलाएं किसी अपराध में सजा होकर जेलों में बंद है उनसे उनका परिवार पूरी तरह से संबंध तोड़ लेता है जबकि पुुरुषों के साथ ऐसी स्थिति नहीं नहीं होती। इसलिए ऐसी महिलाओं के पुनर्वास के लिए भी समाज व संस्थाओं को आगे आना चाहिए। इससे उसमें सुधार लाने की प्रक्रिया को बल मिलेगा और न्याय का उद्देश्य पूरा होगा। महिला विरुद्ध अपराधों में पुलिस की प्रतिक्रिया कैसे हो इस बारे में मार्गदर्शन करते हुए डा. सिंह ने कहा कि पुलिस इन मामलों की पूर्व रोकथाम के लिए समुदाय के साथ मिलकर कार्य करे। घटना की सूचना पर तुरंत संज्ञान ले और पीडि़त की बात को सहानुभूतिपूर्वक सुने। उन्होंने महिला संबधी कानून लागू करने में निष्पक्षा हेतु एक संवेदनशील और आत्मा वाली व्यवस्था को की जरूरत पर बल दिया। डा. सिंह ने कार्यक्रम के समापन अवसर पर प्रतिभागी पुलिसअधिकारियों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किए।
कार्यक्रम में अकादमी के पुलिस अधीक्षक सुमेर प्रताप सिंह ने मुख्य अतिथि का स्वागत तथा प्रशिक्षण सलहाकार व पूर्व पुलिस महानिरीक्षक सतप्रकाश रंगा ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम निदेशक डीए शशिकांत शर्मा ने कार्यक्रम रिपोर्ट प्र्रस्तुत की। प्रतिभागियों की ओर से हिमाचल प्रदेश पुलिस के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विरेंद्र सिंह ठाकुर एवं उप निरीक्षक श्याम ङ्क्षसह ने अपने विचार रखे। इससे पूर्व आज बचपन बचाओ आंदोलन की ज्योति माथुर व हरियाणा पुलिस बिजली वितरण निगम में पुलिस महानिरीक्षक चारू बाली ने जेंडर मामलों को लेकर प्रतिभागियों का मार्गदर्शन किया।
----------
फोटो कैप्शन :
फोटो संख्या 1 - हरियाणा मानवाधिकार आयोग के महानिदेशक डा. केपी सिंह, हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन में जेंडर सेंसीटाइजेशन विषय पर पुलिस अधिकारियों को संबोधित करते हुए।
फोटों संख्या 2 व 3 - हरियाणा मानवाधिकार आयोग के महानिदेशक डा. केपी सिंह, हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन में जेंडर सेंसीटाइजेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम समापन अवसर पर प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदान करते हुए।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
ट्विन सिटी के मंदिरों में 23 को मनेगी जन्माष्टमी, सरकारी छुट्‌टी 24 की
अनुभव अग्रवाल द्वारा मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा का भव्य स्वागत
सत्यदेव नारायण आर्य ने आज साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने वाले 27 संस्कृत साहित्यकारों को 28.86 लाख रूपए की पुरस्कार राशि एवं विभिन्न अलंकरणों से सम्मानित किया राम बिलास शर्मा 21 अगस्त को इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट(आईएचएम), पानीपत के नए परिसर का उद्घाटन करेंगे मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची कांगथली मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची चीका मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची भागल
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज अपनी जन आशीर्वाद यात्रा आंरभ करने से पूर्व अंबाला के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस से अम्बाला के निवासियों को लगभग 3816 लाख रुपए की विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन कर सौगातें दी
मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची पिहोवा
रिकॉर्डतोड़ जलस्तर से दिल्ली तक अलर्ट, हरियाणा के कई इलाकों में घुसा पानी, पानीपत में हाईवे तक पहुंचा