Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
HARYANA-BJP leaders upset over removal of posters ahead of CM’s rallyMOSQUE ASSAULT No Haryana nod for sanction in 2 yrs, trial of right-wing activists yet to startPvt sector salaries logged slowest growth in a decadeIdentify weak links, Shah tells Hry, Maha, Delhi BJP leadersSYL: Centre to hold meet with Haryana, Punjab reps today सीएम की जन आशीर्वाद यात्रा: दिखी टिकटार्थियों में होड़, शक्ति प्रदर्शन के चक्कर में पूर्व विधायक लीलाराम गुर्जर और नरेंद्र गुर्जर के कार्यकर्ताओं में चले लात-घूंसे टिकटार्थियों की भीड़ देख सीएम बोले- एक अनार सौ बीमार, पर एक को ही देंगे टिकट, बाकी मिलकर खिलाओ कमल सीएम की जन आशीर्वाद यात्रा में विधानसभा चुनाव के लिए कैथल में टिकटार्थियों ने किया शक्ति प्रदर्शनहरियाणा की 4 जेलों में शिफ्ट होंगे जम्मू-कश्मीर के बंदी  : जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद बंदियों को शिफ्ट करने की तैयारी
 
Editorial

NBT EDIT-थाली बदलने का वक्त

January 18, 2019 06:45 AM

COURTESY NBT EDIT JAN 18

थाली बदलने का वक्त


अगर स्वस्थ रहना है और आने वाली पीढ़ियों का भी ध्यान रखना है तो हमें अपना खानपान जल्दी बदलना होगा। दुनिया के कुछ प्रमुख वैज्ञानिकों की साझा राय है कि सन 2050 तक दस अरब के आंकड़े को पार कर जाने वाली विश्व जनसंख्या का पेट भरने के लिए जरूरी है कि हम अभी से अपने खाने की थाली में तब्दीली करें। ईट-लांसेट कमिशन के तहत संसार के 37 बड़े आहार विज्ञानियों ने मिलकर ‘द प्लैनेट्री हेल्थ डायट’ तैयार किया है। उनका कहना है कि मानव जाति अगर अपने खाने में रेड मीट और शुगर की मात्रा आधी करके उसकी जगह फल और सब्जियां बढ़ा दे तो न सिर्फ कई बीमारियों से बचाव होगा बल्कि लोगों की आयु भी बढ़ेगी। वैज्ञानिकों के अनुसार यूरोप और नॉर्थ अमेरिका के लोग रेड मीट बहुत ज्यादा खाते हैं। उन्हें इसमें कमी करने की जरूरत है। पूर्वी एशिया में मछली खाने का चलन बहुत ज्यादा है, जिसमें कटौती की आवश्यकता है। अफ्रीका के लोगों को स्टार्च वाली सब्जियां (आलू, शकरकंद) कम खानी चाहिए। इस तरह अगर दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मौजूद लोग अपने भोजन में अलग-अलग तरह के बदलाव करें तो एक परफेक्ट डायट तैयार होगी जो हार्ट अटैक, स्ट्रोक और कैंसर जैसी कई बीमारियों से बचाएगी। इससे हर साल करीब 1 करोड़ लोगों की समय से पहले होने वाली मौत को रोका जा सकेगा। वैज्ञानिकों द्वारा तैयार इस डायट प्लान से धरती और पर्यावरण की रक्षा भी हो सकेगी। इससे ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन घटेगा, जो पर्यावरण पर छाई बीमारी की सबसे बड़ी वजह है। इससे धरती पर अभी मौजूद कई जीव जातियों को विलुप्त होने से बचाया जा सकेगा। कुछ लोगों को लग सकता है कि ये दूर की समस्याएं हैं, लेकिन भारत के अपने समुद्री इलाकों में भी बड़े मछलीमार जहाज कई जल जीवों और वनस्पतियों के साथ-साथ मछुआरों की भी बर्बादी का सबब बन रहे हैं। इसके विरोध में चले उनके आंदोलन आज भी बेनतीजा हैं। जाहिर है, भोजन में मछलियां कम होंगी तो हमारे समुद्र तट ज्यादा खुशहाल रहेंगे। लेकिन सिर्फ डायट बदलने से बहुत ज्यादा फायदा तब तक नहीं होगा जब तक खाने की बर्बादी न रुके। हमारे खानपान का संबंध हमारे भूगोल के अलावा हमारी सामाजिक-सांस्कृतिक परंपराओं से भी रहा है लेकिन हाल के वर्षों में बाजार ने इस पर गहरा असर डाला है। खाने का एक ग्लोबल बाजार तैयार हुआ है जिसने इसे जरूरत के बजाय फैशन और स्टाइल जैसी चीज बना डाला है। भारत में जंक फूड इसीलिए इतनी तेजी से फैला है और महंगे मांसाहार के नाम पर ऐसे व्यंजन प्रचलित हो गए हैं, जो जीवन की अवमानना करते हैं और स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते हैं। इसे सोच-विचार का हिस्सा बनाए बगैर स्वस्थ डायट को बढ़ावा नहीं दिया जा सकता। वैज्ञानिकों की इस सलाह को ध्यान में रखकर सरकारें भी फूड सेक्टर को रेगुलेट कर सकती हैं, लेकिन सामाजिक जागरूकता इसकी पहली शर्त है।
‘द प्लैनेट्री हेल्थ डायट’

Have something to say? Post your comment