Sunday, April 21, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर जमकर बरसी आशा हुड्डाबीजेपी ने किया 7 उम्मीदवारों का ऐलान, दिल्ली से मनोज तिवारी और हर्षवर्धन को टिकटगाजियाबाद: पत्नी और 3 बच्चों की चाकू से गोदकर शख्स ने कर दी हत्या दिग्विजय ने सांसद दुष्यंत चौटाला के विकास कार्यों पर सीएम मनोहर लाल को दी खुली बहस की चुनौतीभूपेंद्र हुड्डा सोनीपत,कुलदीप शर्मा करनाल,भव्य बिश्नोई हिसार,निर्मल सिंह कुरुक्षेत्र और नागर की बजाय अवतार भडाना फरीदाबाद से कांग्रेस प्रत्याशी घोषितशेखर तिवारी मर्डर केस: पत्नी अपूर्वा और 2 नौकरों से पूछताछ करने अन्य जगह ले जाया गयादिल्ली: BJP ने मनोज तिवारी, प्रवेश वर्मा, रमेश बिधूड़ी, डॉ. हर्षवर्धन को दोबारा उताराBJP ने किया लोकसभा टिकटों का ऐलान, दिल्ली के 4 मौजूदा सांसदों को दोबारा मौका
Niyalya se

शिक्षा विभाग में जनरल कैंडिडेट की नियुक्ति पर हाईकोर्ट की रोक

January 18, 2019 05:55 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JAN 18

शिक्षा विभाग में जनरल कैंडिडेट की नियुक्ति पर हाईकोर्ट की रोक
हरियाणा शिक्षा निदेशालय में जनरल कैटेगरी में क्लर्कों के 13 उपलब्ध पदों में से केवल 5 पदों पर नियुक्तियां किए जाने के खिलाफ दायर याचिका पर पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने जनरल श्रेणी में क्लर्कों की भर्ती पर फिलहाल रोक लगा दी है।
इसके खिलाफ दायर याचिका में संतोष देवी ने कहा है कि शिक्षा निदेशालय में क्लर्कों की भर्ती के लिए चयन प्रक्रिया के बाद हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने कुल 742 आवेदकों के नाम भेजे गए थे जिनमें से 45 आवेदकों ने अपने पद ग्रहण नहीं किए। इन 45 पदों में से 13 जनरल श्रेणी के पद थे। याचिकाकर्ता ने कहा है कि उसे जनरल श्रेणी की वेटिंग लिस्ट में रखा गया था और उसने चयन प्रक्रिया में 173 अंक हासिल किए थे। याचिकाकर्ता के वकील ने अदालत को बताया कि जनरल श्रेणी के वर्ग में रिक्त पद पर किसी अन्य श्रेणी का आवेदक भर्ती नहीं किया जा सकता। याचिकाकर्ता ने हरियाणा चयन आयोग से जनरल श्रेणी या एक्स-सर्विस मैन जनरल श्रेणी में वेटिंग लिस्ट में से नियुक्तियां दिए जाने की मांग की थी परंतु आयोग इन रिक्त पदों पर सिर्फ 5 क्लर्कों को भर्ती करने जा रहा है। इस याचिका पर हरियाणा सरकार को 24 जनवरी के नोटिस जारी करते हुए जस्टिस रितु बाहरी ने अपने आदेशों में स्पष्ट किया है कि क्लर्कों के रिक्त रह गए पदों पर चयन प्रक्रिया में 173 से कम अंक हासिल करने वाले किसी भी आवेदक को अदालत के आदेशों से पहले नियुक्ति ना दी जाए।

 
Have something to say? Post your comment