Sunday, January 20, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
गुस्ताखी माफ हरियाणा ने की छत्रपति के नाम पर सालाना पत्रकार पुरस्कार की घोषणाइनेलो विधायक संधू के निधन के बाद अभय चौटाला के हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता पर संशय ?जवानों में मिली ऑपरेशन श्रीमान की एक झलक --ठंड में भी नाईट डोमेशन के दौरान पुलिस रही अलर्टयोगी सरकार कुंभ पर पैसों की बर्बादी कर रही है: ओमप्रकाश राजभरकोलकाता: मोदी और शाह के इरादे बहुत खतरनाक- अरविंद केजरीवालमनोहर लाल ने पिहोवा से विधायक श्री जसविंद्र सिंह संधू के निधन पर गहरा दुख व्यक्त कियाहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गुजरात में रखी हरियाणा भवन की आधारशिलाकोलकाता: सपा-बसपा गठबंधन से देश में खुशी की लहर -अखिलेश यादव
Uttar Pradesh

76 सीटों पर सपा-बसपा लड़ेंगी चुनाव, सहयोगियों के लिए 2 सीटें छोड़ीं

January 12, 2019 12:39 PM

लखनऊ में बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन का ऐलान कर दिया है। बसपा सुप्रीमो मायवाती ने कहा कि यह मोदी-शाह के गुरु चेले की नींद उड़ाने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस है। इस दौरान उन्होंने सीटों का ऐलान करते हुए कहा कि दोनों दल 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। रायबरेली और अमेठी की सीट कांग्रेस के लिए छोड़ दी गई है।

उन्होंने कहा कि केंद्र में भाजपा की सरकार होने से आज देश का युवा, किसान व महिलाएं सब परेशान हैं। इसलिए 1993 में गेस्ट हाउस कांड को देश व जनहित के लिए पीछे छोड़ दिया है। सपा-बसपा गठबंधन से देश को बड़ी उम्मीद है। हम कांग्रेस से कोई गठबंधन नहीं कर रहे हैं। कांग्रेस के लिए सीट छोड़ने से गठबंधन कमजोर होता है। मायावती ने कहा कि भाजपा व कांग्रेस की नीतियां एक ही हैं। बोफोर्स के कारण कांग्रेस की सरकार चली गई। इसी तरह राफेल के कारण भाजपा की सरकार भी चली जाएगी।

इस मौके पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन स्वीकारने के लिए मीडिया के व यूपी की जनता को धन्यवाद। अखिलेश ने कहा कि इस समय देश के जो हालात हैं उसे देखते हुए सपा-बसपा ने एक होने का फैसला लिया है। इस समय भाजपा के लोग सत्ता के अहंकार में चूर हैं। उनका मुकाबला करने के लिए हम साथ आए हैं।

अखिलेश यादव से जब इस बारे में पूछा गया कि क्या वो प्रधानमंत्री पद के लिए मायावती का समर्थन करेंगे? इस पर उन्होंने कहा कि आप मेरी पसंद जानते हैं। उत्तर प्रदेश से देश के कई प्रधानमंत्री बने हैं और हम उसे फिर से दोहराने जा रहे हैं।

इस बारे में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि आज पूरे देश में गठबंधन की जरूरत है। 2014 में बीजेपी ने मात्र 31 प्रतिशत वोट प्राप्त किया था और दावा किया कि यह जनता का फैसला है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वोट बंट जाते हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सपा- बसपा के गठबंधन का स्वागत किया।

 

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले परिवार के आधार पर नीतियां बनती थीं, लेकिन अब ये नहीं होता। देश के अंदर गरीब, गांव, किसान के लिए नीतियां बन रही है। सपा-बसपा का गठबंधन राजनीतिक अस्थिरता को बढ़ाने के लिए है। जो लोग एक दूसरे को देखना नहीं चाहते थे। आज वे लोग एक साथ मिल रहे है। केवल मोदी सरकार के विकास और सुशाशन को रोकने के लिए।

वहीं बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि दोनों पार्टियां बस अपनी जमीन बचाने के लिए एक साथ चुनाव लड़ रही हैं। इन पार्टियों ने बीते समय में एक दूसरे पर हत्या का आरोप भी लगाया है। खैर, यह उनकी पसंद है। हमें आत्मविश्वास है, अगर सभी पार्टियां भी एक साथ आ जाएं तब भी हम चुनाव जीतेंगे।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Uttar Pradesh News
उत्तर प्रदेश सरकार ने 10 प्रतिशत सवर्ण आरक्षण लागू किया
नोएडा-ग्रेटर नोएडा में 25 जनवरी से चलेगी मेट्रो, योगी आदित्यनाथ दिखाएंगे हरी झंडी
राष्ट्रपति कोविंद ने अर्धकुंभ में की पूजा, सीएम योगी और राज्यपाल राम नाइक भी रहे साथ UP SP leader’s kin met woman online, got her pregnant, forced her to abort लखनऊ: अखिलेश यादव से मिले RJD उपाध्यक्ष जयंत चौधरी लखनऊः हजरतगंज चौराहे पर PRD जवानों का विरोध प्रदर्शन UP: नरेश उत्तम का दावा- सपा के संपर्क में BJP के कई सांसद-विधायक यूपी: मुरादाबाद में बोले BSP नेता- बीजेपी वालो को दौड़ा-दौड़ा कर मारेंगे BSP ने पूर्व MLA याकूब कुरैशी को मेरठ-हापुड़ सीट के लिए लोकसभा प्रभारी बनाया आवारा गायों को जेल भेजने की तैयारी में योगी सरकार, कैदी करेंगे देखभालः योगी