Thursday, May 23, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
विपक्षी दलों का अनुमान त्रिशंकु रहेगी संसद, आज राष्ट्रपति को लिखेंगे पत्रममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, ट्विटर पर 'आपातकाल' शीर्षक के साथ लिखी कविताकमलनाथ का पार्टी के लोगों को संदेश- चिंता ना करें, सत्य की होगी जीतपहली बार लोकसभा चुनाव की मतगणना में 5 वीवीपैट मशीन के ऑडिट का प्रावधान किया गया: राजीव रंजनबक्सर से निर्दलीय उम्मीदवार रामचंद्र यादव फरारविपक्षी दलों का अनुमान त्रिशंकु रहेगी संसद, आज राष्ट्रपति को लिखेंगे पत्रEC से झटके पर बोले अभिषेक मनु सिंघवी, 'आचार संहिता' बनी 'मोदी प्रचार संहिता'लुधियाना: चुनाव रिजल्ट के लिए हलवाई को मिला 10-12 क्विंटल लड्डू बनाने का ऑर्डर
Niyalya se

पति की दलील- पत्नी की नकली कुंडली से बिगड़े रिश्ते, HC ने खािरज की याचिका

January 11, 2019 06:29 AM

COURTESY NBT JAN 11

कोर्ट ने कहा- नकली कुंडली देने का आरोप साबित नहीं हो पाया
पति की दलील- पत्नी की नकली कुंडली से बिगड़े रिश्ते, HC ने खािरज की याचिका

Prachi.Yadav@timesgroup.com

 

• नई दिल्ली : पत्नी पर शादी के लिए नकली कुंडली बनाने की साजिश रचने का आरोप लगानेवाले पति को हाई कोर्ट से मुंह की खानी पड़ी। कोर्ट ने उससे कहा कि वह अपनी पत्नी, उसके भाई और पिता के खिलाफ नकली कुंडली देने के आरोप साबित नहीं कर पाया। शख्स का शादी के बाद से ही पत्नी के साथ विवाद चल रहा है। उसे लगता है कि उसकी वजह नकली कुंडली है, जिसे उसकी कुंडली से मिलवाने के लिए तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई।

जस्टिस मुक्ता गुप्ता की बेंच ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि शिकायकर्ता के साक्ष्यों और गवाहों पर गौर करने और असली कुंडली की पुष्टि नहीं होने से ऐसा कोई सबूत नहीं मिला, जिससे यह साबित हो कि शख्स की पत्नी कथित अपराध में शामिल रही हो। हाई कोर्ट ने कहा कि इसका भी सबूत नहीं मिला है कि शख्स की पत्नी ने नकली कुंडली बनाने या देने में कोई भागीदारी निभाई। शख्स यह भी साबित नहीं कर पाया कि लड़की के भाई और पिता ने उसे नकली कुंडली दी थी। शख्स के पास सिर्फ वह अखबार है, जिसमें उसने शादी के लिए ऐड दिया था। महिला को साजिश और धोखाधड़ी के आरोपों से मुक्त किए जाने के सेशन जज के आदेश को हाई कोर्ट ने सही ठहराया। सेशन कोर्ट ने कहा था कि शख्स जालसाजी और धोखाधड़ी का केस साबित नहीं कर पाया।

वह अपने दावे को सही मानकर चल रहा है, जबकि उसके पास पत्नी के खिलाफ कोई सबूत नहीं है। शख्स ने हाई कोर्ट से सेशन जज के आदेश को निरस्त करने की मांग की थी। उसका कहना था कि साल 1991 में उसने एक अंग्रेजी अखबार में शादी के लिए ऐड दिया था। महिला के भाई और पिता ने उससे संपर्क किया। कुंडलियां मिलवाई गईं। ज्योतिषी ने उसे सही बताया। लेकिन शादी के बाद ही पत्नी के साथ उसके रिश्ते बिगड़ गए। शख्स ने आरोप लगाया कि उसकी पत्नी झूठे केस दायर कर उस पर और उसके परिवारवालों पर घर छोड़ने का दबाव बनाने लगी। उसने कुंडली दिखवाई तो पता चला कि महिला के जन्म का समय बदलकर उसे सुबह 5:55 से 8:15 कर दिया गया। शख्स का आरोप था कि शादी करवाने के लिए नकली कुंडली तैयार करवाई गई, इसीलिए उसकी पत्नी और ससुरालवालों के खिलाफ केस चलना चाहिए।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Niyalya se News
राहुल गांधी के खिलाफ FIR की मांग पर कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित बंगाल: बैरकपुर से BJP प्रत्याशी को राहत, सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी पर लगाई रोक SC status cannot be shifted with domicile, rules HC Med students move SC on Maratha ordinance सुप्रीम कोर्ट ने ईडी को गौतम खेतान के खिलाफ कार्रवाई करने की दी इजाजत पूर्व सीएम के राजनीतिक सलाहकार रहे प्रो. वीरेंद्र के खिलाफ कोर्ट में 597 पेज की चार्जशीट दाखिल 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हिंसा का मामला सबूत देखना ट्रायल कोर्ट का काम, हाई कोर्ट का नहीं : सुप्रीम कोर्ट एक मामले की सुनवाई के दौरान गिनाईं हाई कोर्ट के फैसले में खामियां Why give free power to rich farmers, asks HC Judge resigns, highlights pressure Writes ‘Open Letter’ To High Court काला हिरण केस: राजस्थान HC ने सोनाली बेंद्रे, सैफ अली खान और तब्बू को भेजा नोटिस