Sunday, January 20, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
गुस्ताखी माफ हरियाणा ने की छत्रपति के नाम पर सालाना पत्रकार पुरस्कार की घोषणाइनेलो विधायक संधू के निधन के बाद अभय चौटाला के हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता पर संशय ?जवानों में मिली ऑपरेशन श्रीमान की एक झलक --ठंड में भी नाईट डोमेशन के दौरान पुलिस रही अलर्टयोगी सरकार कुंभ पर पैसों की बर्बादी कर रही है: ओमप्रकाश राजभरकोलकाता: मोदी और शाह के इरादे बहुत खतरनाक- अरविंद केजरीवालमनोहर लाल ने पिहोवा से विधायक श्री जसविंद्र सिंह संधू के निधन पर गहरा दुख व्यक्त कियाहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गुजरात में रखी हरियाणा भवन की आधारशिलाकोलकाता: सपा-बसपा गठबंधन से देश में खुशी की लहर -अखिलेश यादव
Niyalya se

पति की दलील- पत्नी की नकली कुंडली से बिगड़े रिश्ते, HC ने खािरज की याचिका

January 11, 2019 06:29 AM

COURTESY NBT JAN 11

कोर्ट ने कहा- नकली कुंडली देने का आरोप साबित नहीं हो पाया
पति की दलील- पत्नी की नकली कुंडली से बिगड़े रिश्ते, HC ने खािरज की याचिका

Prachi.Yadav@timesgroup.com

 

• नई दिल्ली : पत्नी पर शादी के लिए नकली कुंडली बनाने की साजिश रचने का आरोप लगानेवाले पति को हाई कोर्ट से मुंह की खानी पड़ी। कोर्ट ने उससे कहा कि वह अपनी पत्नी, उसके भाई और पिता के खिलाफ नकली कुंडली देने के आरोप साबित नहीं कर पाया। शख्स का शादी के बाद से ही पत्नी के साथ विवाद चल रहा है। उसे लगता है कि उसकी वजह नकली कुंडली है, जिसे उसकी कुंडली से मिलवाने के लिए तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई।

जस्टिस मुक्ता गुप्ता की बेंच ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि शिकायकर्ता के साक्ष्यों और गवाहों पर गौर करने और असली कुंडली की पुष्टि नहीं होने से ऐसा कोई सबूत नहीं मिला, जिससे यह साबित हो कि शख्स की पत्नी कथित अपराध में शामिल रही हो। हाई कोर्ट ने कहा कि इसका भी सबूत नहीं मिला है कि शख्स की पत्नी ने नकली कुंडली बनाने या देने में कोई भागीदारी निभाई। शख्स यह भी साबित नहीं कर पाया कि लड़की के भाई और पिता ने उसे नकली कुंडली दी थी। शख्स के पास सिर्फ वह अखबार है, जिसमें उसने शादी के लिए ऐड दिया था। महिला को साजिश और धोखाधड़ी के आरोपों से मुक्त किए जाने के सेशन जज के आदेश को हाई कोर्ट ने सही ठहराया। सेशन कोर्ट ने कहा था कि शख्स जालसाजी और धोखाधड़ी का केस साबित नहीं कर पाया।

वह अपने दावे को सही मानकर चल रहा है, जबकि उसके पास पत्नी के खिलाफ कोई सबूत नहीं है। शख्स ने हाई कोर्ट से सेशन जज के आदेश को निरस्त करने की मांग की थी। उसका कहना था कि साल 1991 में उसने एक अंग्रेजी अखबार में शादी के लिए ऐड दिया था। महिला के भाई और पिता ने उससे संपर्क किया। कुंडलियां मिलवाई गईं। ज्योतिषी ने उसे सही बताया। लेकिन शादी के बाद ही पत्नी के साथ उसके रिश्ते बिगड़ गए। शख्स ने आरोप लगाया कि उसकी पत्नी झूठे केस दायर कर उस पर और उसके परिवारवालों पर घर छोड़ने का दबाव बनाने लगी। उसने कुंडली दिखवाई तो पता चला कि महिला के जन्म का समय बदलकर उसे सुबह 5:55 से 8:15 कर दिया गया। शख्स का आरोप था कि शादी करवाने के लिए नकली कुंडली तैयार करवाई गई, इसीलिए उसकी पत्नी और ससुरालवालों के खिलाफ केस चलना चाहिए।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Niyalya se News
IRCTC Scam case: पटियाला हाउस कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 11 फरवरी तय की प्रशांत भूषण पर बरसे चीफ जस्टिस, बोले- आप सब जानते हैं...जजों से भी ज्यादा Complete task by Feb 28, SC to Lokpal search panel शिक्षा विभाग में जनरल कैंडिडेट की नियुक्ति पर हाईकोर्ट की रोक Media leaks led to U-turn on SC judges छत्रपति हत्याकांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम , कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह को सीबीआई कोर्ट ने उम्र कैद की सजा और पचास-पचास हजार का जुर्माना भी देना होगा पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस:थोड़ी देर में राम रहीम की सजा पर फैसला आने की संभावना पंचकूला में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केसः कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जारी पत्रकार हत्याकांड: CBI ने राम रहीम को फांसी देने की मांग की पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस- थोड़ी देर में राम रहीम की सजा पर फैसला