Tuesday, August 20, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अनुभव अग्रवाल द्वारा मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा का भव्य स्वागतसत्यदेव नारायण आर्य ने आज साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने वाले 27 संस्कृत साहित्यकारों को 28.86 लाख रूपए की पुरस्कार राशि एवं विभिन्न अलंकरणों से सम्मानित कियाराम बिलास शर्मा 21 अगस्त को इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट(आईएचएम), पानीपत के नए परिसर का उद्घाटन करेंगेमुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची कांगथलीमुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची चीकामुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची भागलउत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत ने उत्तरकाशी में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा कियागोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे 91 किमी. लंबा होगा, खर्च होंगे 321 करोड़ रुपए
 
Niyalya se

पति की दलील- पत्नी की नकली कुंडली से बिगड़े रिश्ते, HC ने खािरज की याचिका

January 11, 2019 06:29 AM

COURTESY NBT JAN 11

कोर्ट ने कहा- नकली कुंडली देने का आरोप साबित नहीं हो पाया
पति की दलील- पत्नी की नकली कुंडली से बिगड़े रिश्ते, HC ने खािरज की याचिका

Prachi.Yadav@timesgroup.com

 

• नई दिल्ली : पत्नी पर शादी के लिए नकली कुंडली बनाने की साजिश रचने का आरोप लगानेवाले पति को हाई कोर्ट से मुंह की खानी पड़ी। कोर्ट ने उससे कहा कि वह अपनी पत्नी, उसके भाई और पिता के खिलाफ नकली कुंडली देने के आरोप साबित नहीं कर पाया। शख्स का शादी के बाद से ही पत्नी के साथ विवाद चल रहा है। उसे लगता है कि उसकी वजह नकली कुंडली है, जिसे उसकी कुंडली से मिलवाने के लिए तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई।

जस्टिस मुक्ता गुप्ता की बेंच ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि शिकायकर्ता के साक्ष्यों और गवाहों पर गौर करने और असली कुंडली की पुष्टि नहीं होने से ऐसा कोई सबूत नहीं मिला, जिससे यह साबित हो कि शख्स की पत्नी कथित अपराध में शामिल रही हो। हाई कोर्ट ने कहा कि इसका भी सबूत नहीं मिला है कि शख्स की पत्नी ने नकली कुंडली बनाने या देने में कोई भागीदारी निभाई। शख्स यह भी साबित नहीं कर पाया कि लड़की के भाई और पिता ने उसे नकली कुंडली दी थी। शख्स के पास सिर्फ वह अखबार है, जिसमें उसने शादी के लिए ऐड दिया था। महिला को साजिश और धोखाधड़ी के आरोपों से मुक्त किए जाने के सेशन जज के आदेश को हाई कोर्ट ने सही ठहराया। सेशन कोर्ट ने कहा था कि शख्स जालसाजी और धोखाधड़ी का केस साबित नहीं कर पाया।

वह अपने दावे को सही मानकर चल रहा है, जबकि उसके पास पत्नी के खिलाफ कोई सबूत नहीं है। शख्स ने हाई कोर्ट से सेशन जज के आदेश को निरस्त करने की मांग की थी। उसका कहना था कि साल 1991 में उसने एक अंग्रेजी अखबार में शादी के लिए ऐड दिया था। महिला के भाई और पिता ने उससे संपर्क किया। कुंडलियां मिलवाई गईं। ज्योतिषी ने उसे सही बताया। लेकिन शादी के बाद ही पत्नी के साथ उसके रिश्ते बिगड़ गए। शख्स ने आरोप लगाया कि उसकी पत्नी झूठे केस दायर कर उस पर और उसके परिवारवालों पर घर छोड़ने का दबाव बनाने लगी। उसने कुंडली दिखवाई तो पता चला कि महिला के जन्म का समय बदलकर उसे सुबह 5:55 से 8:15 कर दिया गया। शख्स का आरोप था कि शादी करवाने के लिए नकली कुंडली तैयार करवाई गई, इसीलिए उसकी पत्नी और ससुरालवालों के खिलाफ केस चलना चाहिए।

Have something to say? Post your comment