Thursday, March 21, 2019
Follow us on
Haryana

JIND-रिटर्निंग आॅफिसर के कार्यालय में पार्टी नेताओं के समर्थकों को रोकने में नाकाम रहा प्रशासन, निर्दलियों पर लगाई रोक भीड़ बढ़ने पर एक निर्दलीय उम्मीदवार ने जताया विरोध, बोले हमारे समर्थकों को क्यों निकाला बाहर?

January 11, 2019 05:31 AM



रिटर्निंग आॅफिसर के कार्यालय में पार्टी नेताओं के समर्थकों को रोकने में नाकाम रहा प्रशासन, निर्दलियों पर लगाई रोक
भीड़ बढ़ने पर एक निर्दलीय उम्मीदवार ने जताया विरोध, बोले हमारे समर्थकों को क्यों निकाला बाहर?
28 जनवरी को होने वाले जींद उपचुनाव के लिए गुरुवार को नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन था। अंतिम दिन राष्ट्रीय, राज्य पार्टियों के अलावा निर्दलीय उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किए, लेकिन पुलिस प्रशासन के पुख्ता प्रबंध दोपहर तक तो सही नजर आए, लेकिन जैसे-जैसे राष्ट्रीय व राज्य पार्टियों के नेता नामांकन दाखिल करने पहुंचे तो उनके इंतजाम धरे के धरे रह गए। रिटर्निंग आॅफिसर के कार्यालय में समर्थकों का जमावड़ा लग गया। यही नहीं एक साथ कई उम्मीदवार व उनके समर्थक आने के कारण पूरा रिटर्निंग आॅफिसर का कार्यालय भर गया, जिस पर चुनाव लड़ने के इच्छुक एक उम्मीदवार ने तो हंगामा शुरू कर दिया और अधिकारियों पर उनके समर्थकों को जान-बूझकर बाहर भेजने के आरोप लगाए। काफी मशक्कत के बाद कर्मचारियों ने उसे समझाने का प्रयास किया, तब जाकर वह माना। समर्थकों की भीड़ को देखते हुए रिटर्निंग आॅफिसर के कार्यालय के गेट को बंद कर दिया गया, इसके चलते कांग्रेस उम्मीदवार के नामांकन के दौरान पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल बाहर रह गई। उन्होंने अंदर जाने की बात कही, लेकिन अंदर से गेट बंद होने की वजह से उन्हें काफी देर तक गेट के बाहर ही इंतजार करना पड़ा।
दिग्गज आए तो निर्दलीयों को भेजा बाहर : जैसे ही भाजपा, कांग्रेस, इनेलो और जेजेपी के नेता नामांकन फार्म भरने के लिए पहुंचे तो वहां मौजूद अधिकारियों ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन जमा करवाने आए उम्मीदवारों व उनके समर्थकों को बाहर निकाल दिया। इसका कुछ समर्थकों ने विरोध भी किया, लेकिन अधिकारी नहीं माने।
एटीएम लेकर पहुंचा एक उम्मीदवार : नामांकन प्रक्रिया के दौरान एक उम्मीदवार की जब सिक्योरिटी राशि जमा करवाने की बारी आई तो उसने कर्मचारियों के सामने एटीएम कर दिया, लेकिन कर्मचारियों ने कहा कि यहां एटीएम से काम नहीं चलेगा, आपको कैश लाना पड़ेगा। इस पर कर्मचारी ने कैशलेस की बात कही तो अन्य कर्मचारी बीच-बचाव में आए और बाद में एटीएम के जरिये राशि लेने की बात कहकर फार्म लिया गया।
नजारा देखने में लगे रहे कर्मचारी
गोहाना रोड से लेकर कोर्ट परिसर के अंदर तक बेरिकेडिंग की गई थी, इसके कारण आम आदमी को भी कोर्ट परिसर में नहीं आने दिया जा रहा था, ऐसे में कर्मचारियों के पास आज कोई नहीं दिखा और कर्मचारी छतों से ही नीचे का नजारा देखते हुए नजर आए। पूरा दिन कर्मचारी नामांकन के लिए आए उम्मीदवारों व नेताओं के आने का नजारा देखते रहे। कई कर्मचारी तो अपने आला नेताओं के आगे-पीछे चक्कर भी काटते दिखे और उनके वीडियो बनाते नजर आए।
शिक्षा मंत्री बोले-सही समय पर आए हैं न, मुहूर्त भी सही है सवा 2 बजे का
भाजपा के प्रत्याशी डॉ. कृष्ण मिड्‌ढा के नामांकन के समय खुद शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा, प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, सांसद रमेश कौशिक व विधायक प्रेमलता पहुंचे। इस दौरान शिक्षा मंत्री ने मजाक करते हुए एसडीएम से कहा कि साहब हम सही समय पर आए हैं न। मुहूर्त भी सही है सवा दो बजे का। इस पर वहां मौजूद अधिकारी व कर्मचारी भी मंत्री की बात सुनकर हंस पड़े।
भीड़ अंदर पहुंचने पर बिगड़ने लगी व्यवस्था तो दौड़े डीएसपी
कोर्ट परिसर के अंदर की जिम्मेदारी डीएसपी रामभज को सौंपी गई थी। दोपहर तक तो ठीक था, लेकिन जैसे ही राष्ट्रीय पार्टियों के उम्मीदवार नामांकन के लिए पहुंचे तो व्यवस्था बिगड़ने लगी। समर्थकों के अंदर आने की सूचना मिलने पर डीएसपी रामभज तुरंत दल-बल के साथ गाड़ी में बाहर गए, लेकिन तब तक समर्थक अंदर आ चुके थे। ऐसे में उन्हें वापस लौटना पड़ा। वहीं, गोहाना रोड पर भी समर्थकों के साथ कई बार डीएसपी आदर्शदीप व पुलिस की बहस हुई।

 
Have something to say? Post your comment