Friday, March 22, 2019
Follow us on
Haryana

AMBALA-डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का नहीं आया आवेदन ट्विनसिटी में कोई भी ठेकेदार ठेका लेने को तैयार नहीं, अब निगम 15 को खोलेगा टेंडर

January 11, 2019 05:25 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JAN 11डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का नहीं आया आवेदन
ट्विनसिटी में कोई भी ठेकेदार ठेका लेने को तैयार नहीं, अब निगम 15 को खोलेगा टेंडर

ट्विनसिटी में डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का ठेका कोई भी ठेकेदार लेने को तैयार नहीं है। इसलिए नगर निगम द्वारा जारी किए गए टेंडर में किसी भी ठेकेदार ने आवेदन नहीं किया। अब निगम 15 तारीख को टेंडर खोलेगा। वहीं नगर निगम में लगे कच्चे सफाई कर्मचारी कार्यालय में बैठकर बाबूगिरी कर रहे हैं। जबकि इन कर्मचारियों की नियुक्ति वार्ड में सफाई व्यवस्था बनाए रखने के लिए सफाई कर्मचारी के तौर पर की गई थी, लेकिन अधिकारियों की मेहरबानी के चलते कुछ कर्मचारियों को निगम कार्यालय में क्लेरिकल कार्यभार सौंपा गया है। यही कारण है कि निगम क्षेत्र के वार्डों में सफाई व्यवस्था का बुरा हाल है।
दरअसल, नगर निगम में अधिकारियों के चलते सफाई कर्मचारी कार्यालय में बैठकर क्लर्क का काम कर रहे हैं। जबकि उनको वार्डों में सफाई के लिए बतौर सफाई कर्मचारी नियुक्त किया गया था, लेकिन सालों से अधिकारियों की मेहरबानी इन कर्मचारियों पर बनी हुई है और जिस काम के लिए तकनीकी जानकार को होना चाहिए, उस पर सफाई कर्मचारी से काम लिया जा रहा है। जहां एक ओर डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन अभियान पिछले लगभग तीन महीने से ज्यादा समय से बंद है जिस वजह से जगह-जगह गंदगी के ढेर लगने शुरू हो गए हैं। वहीं इतने समय में किसी भी ठेकेदार द्वारा ठेका नहीं गया है। इससे कूड़ा उठने की समस्या से निजात मिलता नहीं नजर आ रहा है।
अधिकारियों के चहेते सफाई कर्मी कर रहे बाबूगीरी, वार्डों में जगह-जगह लगे गंदगी के ढेर
...कूड़ा कलेक्शन के लिए लाए ई रिक्शा हो रहे कंडम
नगर निगम द्वारा लाखाें रुपए खर्च करके वार्डों में सफाई व्यवस्था को दुरूस्त रखने के लिए ई रिक्शा खरीदे गए थे। जिन्हें कूड़ा उठाने के लिए लाया गया था, लेकिन डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन अभियान के बंद होने के बाद से ई रिक्शा को कूड़ा उठाने के उपयोग में नहीं लिया जा रहा है। निगम कार्यालय में ई रिक्शा कंडम हो रहे हैं।
डंपिंग जोन पर भी नहीं हो सका काम शुरू
कैंट व सिटी में डंपिंग जोन नहीं होने के कारण निगम द्वारा कूड़ा इधर-उधर फेंका जा रहा है, जिससे कूड़ा शहर में ही बना हुआ है। हालांकि कैंट में चंद्रपुरी में डंपिंग जोन बनाने की योजना तैयार की जा रही थी, लेकिन उस पर भी आज तक काम शुरू नहीं हो पाया। इससे पहले निगम ने लाखाें रुपए खर्च करके गांधी ग्राउंड में डंपिंग जोन बना दिया। लोगों के विरोध के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने निगम अधिकारियों को डंपिंग जोन शहर से बाहर बनाने के आदेश दिए। हालांकि अब निगम गांधी ग्राउंड में डंपिंग जोन को रेहड़ी-फड़ी मार्केट बनाने की तैयारी कर रहा है।
पटवी प्लांट शुरू नहीं
सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट पटवी में लगाया गया था। इसके शुरू न होने के कारण आज भी कूड़ा निस्तारण नहीं हो रहा है। इस कारण ट्विनसिटी में हर जगह कूड़े के ढेर लग गए हैं और इस कारण स्वच्छता सर्वेक्षण में अम्बाला का पिछड़ना तय है।
अभी मैंने ज्वाइन नहीं किया है। जल्द ही ज्वाइन करूंगी, इसके बाद इस बारे में बता सकूंगी। मीनाक्षी दहिया, कमिश्नर, नगर निगम अम्बाला।

 
Have something to say? Post your comment