Monday, August 26, 2019
Follow us on
 
Delhi

गरीब बच्चों को सुरक्षित स्पर्श,असुरक्षित स्पर्श से करवाया परिचित

December 20, 2018 04:47 PM

सेक्स और प्रजनन जैसे विषयों के बारे में खुले में बात करने पर अभी भी भारत में काफी रोक टोक लगाया जाता है। दूसरी ओर, नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक, हमारे देश में हर 15 मिनट में एक बच्चे का यौन शोषण किया जा रहा है।

इस मुद्दे को ध्यान में रखते हुए, यौन स्वास्थ्य और शिक्षा के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने
के उद्देश्य से, दीपालय, दिल्ली-एनसीआर में सबसे बड़ा परिचालन एनजीओ ने प्रतिशांधी (दिल्ली स्थित, युवाओं द्वारा परिचालित एक संस्था) के साथ हाथ मिलाया है। हाल ही में "सुरक्षित और असुरक्षित स्पर्श" पर एक कार्यशाला आयोजित किया गया दीपालय व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र, ककरोला, द्वारका सेक्टर -15 में; यह वर्कशॉप 7 से 10 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों के लिए डिज़ाइन की गई थी। भरत विहार क्षेत्र की झोपड़पट्टी इलाको में रहने वाले कुल 43 बच्चों ने कार्यशाला में भाग लिया। श्रीमती अनीता राणा, असिस्टेंट मैनेजर प्रोग्राम और दीपालय के कुछ अन्य कर्मचारी इस अवसर पर मौजूद थे।

इस कार्यक्रम का का मुख्य उद्देश्य उपस्थित बच्चों को असुरक्षित और अवांछित स्पर्श से निपटने के तरीके से वाकिफ करना। यदि आवश्यक हो और खतरनाक परिस्थित्तियो का समाना करना पड़े तो वह कैसे जूझेंगे, ताकि बच्चों के खिलाफ बलात्कार और यौन अपराधमूलक घटनाएं रोका जा सके। इस वर्कशॉप के फैसिलिटेटर नियाती और मेधा ने शरीर के प्राइवेट अंगो के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने आगे बताया कि विभिन्न प्रकार के मानव स्पर्श की पहचान कैसे करें। छात्रों को यह महसूस करवाया कि प्रत्येक व्यक्ति के पास उनका कम्फर्ट जोन और गोपनीयता है जिसे सम्मान करना ज़रूरी हैी।

वक्ताओं ने "कंसेंट" के महत्व पर भी चर्चा किया और अगर किसी को यौन उत्पीड़न या परेशान किया जा रहा है तो क्या करना है वह भी बताया। अंत में, बच्चों ने इस विषय से जुड़े कुछ सवाल भी पूछे और चॉकलेट वितरण करके उन्हें प्रोत्साहित किया गया। यह सत्र इन बच्चों के लिए बहुत उपयोगी साबित हुआ क्यूंकि पहले उन्हें इन मुद्दों के बारे कुछ भी पता नहीं था।

दीपालाय के बारे में

दीपालाय एक आईएसओ 9001:2008 प्रमाणित गैर-सरकारी संगठन है जो आत्मनिर्भरता को सक्षम करने में विश्वास करता है और महिलाओं और बच्चों पर विशेष ध्यान देने के साथ शहरी और ग्रामीण गरीबों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।
यह गैर-सरकारी संगठन 16 जुलाई, 1979 को सात संस्थापक सदस्यों द्वारा शुरू किया गया था और तीन से अधिक दशकों से निरक्षरता के विरूद्ध धर्मयुद्ध में योगदान दे रहा है। वर्षों से दीपालय ने शिक्षा (औपचारिक/गैर-औपचारिक/उपचारात्मक), महिला सशक्तिकरण (प्रजनन स्वास्थ्य, एसएचजी, माइक्रो-फाइनेंस), संस्थागत देखभाल, सामुदायिक स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण आदि के क्षेत्रों में कई परियोजनाएं चलायी हैं। हमारी परियोजनाएं दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, और तेलांगना में चल रही हैं।

Have something to say? Post your comment
More Delhi News
अनंत में विलीन हुए अरुण जेटली, राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई बेटे रोहन देंगे अरुण जेटली को मुखाग्नि, निगम बोध घाट पर नेताओं का तांता कुछ देर में पंचतत्व में विलीन होंगे अरुण जेटली लालकृष्ण आडवाणी निगमबोध घाट पर मौजूद, थोड़ी देर में जेटली का अंतिम संस्कार नितिन गडकरी, जगदीश मुखी और येदियुरप्पा निगमबोध घाट पहुंचे विधायक व भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्री सुभाष बराला ने भी दिवंगत श्री अरूण जेटली को श्रद्धांजलि दी अरूण जेटली को कैलाश कालोनी (नई दिल्ली) स्थित उनके निवास पर पहुँचकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने श्रद्धांजलि दी राजकीय सम्मान के साथ आज होगा अरुण जेटली का अंतिम संस्कार निगम बोध घाट पर आज दोपहर 2 बजे होगा अरुण जेटली का अंतिम संस्कार अंतिम दर्शन के लिए बीजेपी मुख्यालय ले जाया जा रहा है अरुण जेटली का पार्थिव शरीर