Thursday, January 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
छत्रपति हत्याकांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम , कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह को सीबीआई कोर्ट ने उम्र कैद की सजा और पचास-पचास हजार का जुर्माना भी देना होगा पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस:थोड़ी देर में राम रहीम की सजा पर फैसला आने की संभावनाबुलंदशहरः गुब्बारा भरने वाले गैस सिलेंडर ब्लास्ट, एक दर्जन से ज्यादा बच्चे झुलसेपंचकूला में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केसः कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जारीपत्रकार हत्याकांड: CBI ने राम रहीम को फांसी देने की मांग कीजस्टिस दिनेश महेश्वरी और संजीव खन्ना कल लेंगे SC के न्यायमूर्ति पद की शपथबीमारी का इलाज है, पर कांग्रेस नेताओं की सोच का इलाज नहीं: पीयूष गोयलPM मोदी ने वाइब्रेंट गुजरात समिट का उद्घाटन किया
Haryana

कुरुक्षेत्र की दुर्गा शक्ति वाहनी टीम को प्रथम पुरस्कार मिला

December 17, 2018 09:27 PM
हरियाणा सरकार द्वारा महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा हेतु शुरू की गई दुर्गा शक्ति ऐप के प्रभावी रूप से क्रियान्वयन के लिए जिला कुरुक्षेत्र की दुर्गा शक्ति वाहनी टीम को प्रथम पुरस्कार मिला है।
पुलिस विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार द्वारा दुर्गा शक्ति ऐप लॉन्च की गई है, जिसका मुख्यालय पंचकूला में बनाया गया है। इसके अलावा, सरकार द्वारा जिला स्तर पर दुर्गा शक्ति वाहिनी का गठन किया गया है।  
उन्होंने बताया कि जिला कुरुक्षेत्र की दुर्गा शक्ति वाहिनी टीम में शामिल महिला एएसआई तारो देवी, हवलदार उर्मिला, हवलवार सतविन्द्र, हवलदार प्रवीण, सिपाही बबली, सिपाही दीक्षा, सिपाही प्रियंका, हवलदार सुमन व हवलदार पूनम ने अपने कत्र्तव्य को ईमानदारी व लगन से करते हुए ज्यादा से ज्यादा महिला एवं बालिकाओं को दुर्गा शक्ति ऐप के बारे में जागरूक करके पूरे प्रदेश में प्रथम स्थान हासिल किया है। पुलिस महानिदेशक ने जिला कुरुक्षेत्र की दुर्गा शक्ति वाहिनी को 51 हजार रुपये पुरस्कार एवं प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया है।  
प्रवक्ता ने बताया कि दुर्गा शक्ति वाहिनी टीम को किसी भी महिला या बालिका को परेशानी के समय तुरंत सहायता उपलब्ध कराने जिम्मा सौंपा गया है और यह वाहिनी हर समय तैयार रहती है। जिला कुरुक्षेत्र में भी दुर्गा शक्ति वाहिनी का गठन करके उसको चार भागों में बांटा गया है। दिन के समय महिला पुलिस की जवान तैनात रहती हैं तथा रात के समय यह ड्यूटी पुलिस पुरुष कर्मचारियों को सौंपी गई है। 
       उन्होंने बताया कि सरकार के निर्देशानुसार महिलाओं एवं बालिकाओं को जागरूक करने के लिए स्कूलों एवं कॉलेजों में जाकर ज्यादा से ज्यादा लड़कियों से यह ऐप डाउनलोड करवाई जा रही है तथा कन्या स्कूलों एवं महिला कॉलेजों में तैनात महिला अध्यापिकाओं को भी इस ऐप की ज्यादा से ज्यादा जानकारी देने और ज्यादा से ज्यादा स्काउट गाइड को भी इस बारे में बताने को कहा गया है। इस ऐप का मकसद महिलाओं को तुरन्त सुरक्षा प्रदान करना है। 
उन्होंने बताया कि जब भी कोई महिला परेशानी में हो तथा उसको फोन करने का भी समय न मिले तो वह अपने मोबाइल के इस ऐप का इस्तेमाल करके केवल इस ऐप पर टच कर सकती है। इस ऐप के टच होते ही पुलिस कन्ट्रोल रूम में सूचना पहुंच जायेगी तथा उसके चंद मिनटों में ही पुलिस परेशान महिला की सहायता के लिए उसके पास पहुंच जायेगी। यह ऐप केवल एंड्रॉयड मोबाइल फोन में ही उपलब्ध है। इस ऐप को डाउनलोड करके महिलाएं अपनी सुरक्षा स्वयं करके अपराधियों को पकड़वाने में पुलिस प्रशासन की सहायता कर सकती हैं। सभी थाना प्रबंधकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे सभी स्कूलों में जाकर ज्यादा से ज्यादा ऐप डाउनलोड करवाएं ताकि अपराधों पर अंकुश लग सके और किसी भी बालिका व महिला को परेशानी न उठानी पड़े ।
 
Have something to say? Post your comment