Sunday, August 25, 2019
Follow us on
 
Haryana

मनोहर लाल ने गुरूग्राम में तीन दिवसीय गीता उत्सव-2018 तथा जिला स्तरीय प्रदर्शनी का विधिवत् उदघाटन किया

December 16, 2018 09:17 PM

गुरुग्राम(विकेश शर्मा):हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज गुरूग्राम में तीन दिवसीय गीता उत्सव-2018 तथा जिला स्तरीय प्रदर्शनी का विधिवत् उदघाटन किया और कहा कि श्रीमद भागवत गीता एक ज्ञान है, सभी लोग इसके महत्व को समझते हुए इसका जीवन में उपयोग करें।

गुरूग्राम में यह तीन दिवसीय गीता उत्सव तथा जिला स्तरीय प्रदर्शनी  सैक्टर-44 स्थित अपैरल हाउस में आयोजित की जा रही है। मुख्यमंत्री ने आज इस उत्सव के साथ-साथ प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया जिसमें विभिन्न विभागों तथा संस्थाओं द्वारा 25 स्टॉल लगाए गए हैं। यह प्रदर्शनी तीनों दिन लगी रहेगी और इसमें प्रवेश नि:शुल्क है। इस उद्घाटन के समय हरियाणा के लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह, विधायक उमेश अग्रवाल व तेजपाल तंवर, मेयर मधु आजाद, भाजपा जिलाध्यक्ष भूपेंद्र चैहान भी मुख्यमंत्री के साथ थे।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि गीता धार्मिक ग्रंथ नहीं है बल्कि इसमें व्यवहारिकता बहुत है। उन्होंने  गीता के श्लोक ‘कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन‘का उल्लेख करते हुए कहा कि इसका सार है कि कर्म करना हमारा फर्ज है, ड्यूटी है, इसका फल हमें जरूर मिलेगा। हमें  फल की लालसा में कर्म नहीं करना है। उन्होंने कहा कि गीता हर वर्ग के लिए उपयोगी है, चाहे विद्यार्थी हों, आम नागरिक, कर्मचारी या व्यापारी हों। मुख्यमंत्री ने कहा कि गीता प्रबंधन भी सिखाती है, जिससे कम समय में ज्यादा काम हो सकता है, इसलिए हावर्ड स्कूल ऑफ मैनेजमेंट में गीता को अपने पाठ्यक्रम में जोड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि गीता के महत्व को देखते हुए इसके कुछ श्लोकों को इस बार स्कूलों के पाठ्यक्रम में लगाया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग उनसे कहते हैं कि आप गाय, गीता और गंगा की बात करते हैं इससे क्या लाभ। इसके जवाब में मुख्यमंत्री का कहना था कि इससे मनुष्य में संस्कार जागृत होते हैं और अच्छे समाज का निर्माण होता है। हम एक अनजान व्यक्ति को भी अपना भाई मानते हैं, जब ऐसे भाव हमारे मन में आएंगे तो हम उसके अहित के बारे में नहीं सोच सकते। इसके साथ श्री मनोहर लाल ने यह भी कहा कि गीता से हमें समाज के लिए काम करने की पे्ररणा मिलती है। उन्होंने बताया कि जब सितंबर 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री बराक ओबामा को श्रीमद भागवत गीता की प्रति भेंट की थी और बहुत से विदेशियों ने भी गीता पर टिप्पणियां की हुई हैं, तब उनके मन में विचार बना कि गीता उत्सव मनाया जाना चाहिए ताकि इसकी उपयोगिता के बारे में सभी जाने। उन्होंने बताया कि सन् 2016 में पहला कार्यक्रम आयोजित किया गया और अब तीसरा महोत्सव मनाया जा रहा है। पिछले वर्ष कुरूक्षेत्र में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव में 25 देशों के लोग आए तथा 25 लाख लोगों का वहां पदार्पण हुआ। इस बार मोरीशस को कंट्री पार्टनर बनाया गया है और गुजरात को स्टेट पार्टनर। मोरीशस के कार्यवाहक राष्ट्रपति श्री प्रामाशिवम पिल्ले वयापरे चार दिन की यात्रा पर आए हुए हैं।  उन्होंने कहा कि मोरीशस एक हिंदु राष्ट्र है और बहुत से भारतीय वहां बसे हुए हैं। इसी प्रकार, गुजरात के द्वारका के राजा रहे भगवान रहे श्रीकृष्ण ने वहां से आकर हरियाणा के कुरूक्षेत्र में अर्जुन के माध्यम से संपूर्ण मानवता को गीता का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि गीता में मानव जीवन जीने का सार दर्शाया गया है और दुनिया में इसी गं्रथ मे शस्त्र और शास्त्र दोनों का एकसाथ प्रसंग मिलता है। उन्होंने कहा कि सभी जगह मर्यादाएं चाहिए। पहले युद्ध के दौरान भी सांयकाल के बाद दूसरे खेमे में जाकर कुशल क्षेम पूछते थे। वैसी ही मर्यादाएं समाज में कायम होनी चाहिए।

इससे पहले अपने विचार रखते हुए पटौदी हरि मंदिर आश्रम के महामण्डलेश्वर आचार्य धर्मदेव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने श्रीमद भागवत गीता की जयंती को अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप दिया है। उन्होंने कहा कि 5 हजार साल पहले लिखी गई गीता में कहा गया है कि पृथ्वी पर यदि स्वर्ग धारण करता है तो वह हरियाणा है। आचार्य धर्मदेव ने कहा कि आज मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में बातचीत करते हुए उनसे कहा है कि हम रहें  या ना रहे पर यह गीता का प्रवाह चलता रहे। उन्होंने कहा कि हम सभी अधिकारों की मांग जोर-शोर से करते हैं परंतु गीता में भगवान कृष्ण ने मनुष्य को कर्तव्य का बोध करवाया है और कहा है कि तेरा अधिकार कर्म करना है। उन्होंने आम जनता से आह्वान किया कि यह गीता हमारे जीवन में उतरनी चाहिए और हम गीता के उपदेश को आत्मसात करें। उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने भी मुख्यमंत्री तथा अन्य विशिष्ठ अतिथियों का स्वागत किया और तीन दिवसीय गीता उत्सव के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, जिला परिषद अध्यक्ष कल्याण सिंह चैहान, पुलिस आयुक्त के के राव, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, एचएसवीपी के प्रशासक चंद्र शेखर खरे सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। 

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
हरियाणा में अरूण जेटली के आकस्मिक निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया राज्य के सभी फार्मासिस्ट 26 को सामूहिक अवकाश पर , दवाइयों के लिए होगी मारामारी Badal’s advice to feuding Chautalas ahead of polls may be too late पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल पहली बार हुई लिखित परीक्षा ताे मास्टर बन गए एचसीएस, 18 में से 16 पदों पर ग्रुप सी के शिक्षकाें ने जमाया कब्जा घग्गर नदी में पानी के तेज बहाव से हर्बल पार्क से लेकर खाली एरिया की जमीन नदी में बही पंचकूला एक्सटेंशन सेक्टरों के लोगों ने पिछले साल सेफ्टी वॉल टूटने की दी थी कंप्लेंट, नहीं हुई कार्रवाई एचएसवीपी ड्राफ्ट की एन्हांसमेंट पॉलिसी पर तीन जजों की रिपोर्ट होगी लागू...
ADGP श्रीकांत जाधव के ट्रांसफर पर विदाई पार्टी, तमाम अफसर पहुंचे
हरियाणा लोक सेवा आयोग ने एचसीएस ग्रुप सी का रिजल्ट घोषित किया
अर्जुन अवार्डी मुक्केबाज पी/एस.आई. कविता चहल ने वर्ल्ड पुलिस गेम में हासिल किया स्वर्ण पदक