Thursday, March 21, 2019
Follow us on
Haryana

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में चल रहे अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव में भारत के सांस्कृतिक झरोखों को देखकर पर्यटक भाव-विभोर हो गए

December 11, 2018 04:38 PM
हरियाणा के कुरुक्षेत्र में चल रहे अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव में भारत के सांस्कृतिक झरोखों को देखकर पर्यटक भाव-विभोर हो गए। इस उत्सव में एक मंच पर ही भारत की विभिन्न लोक संस्कृतियों को देखा जा सकता है। इस उत्सव में पंजाब, उत्तराखंड, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर और राजस्थान के लोक कलाकारों ने जमकर पर्यटकों का मनोरंजन किया और सभी को अपने मोहपाश में बांध दिया। अहम पहलू यह है कि एनजेडसीसी 2 राज्यों के कलाकारों के साथ गीता जयंती में वर्ष 2002 में पहुंची थी, अब 17 सालों में 12 से ज्यादा राज्यों के कलाकार महोत्सव में शिरकत कर रहे है और लगातार पर्यटकों का मन मोह रहे है। 
महोत्सव के पांचवें दिन मंगलवार को क्राफ्ट और सरस मेला देखने के लिए लगातार पर्यटकों और श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ रही है। ज्यों-ज्यों महोत्सव आगे बढ़ रहा है, त्यों-त्यों महोत्सव की रौनक भी बढ़ रही है। इस महोत्सव में लोग जहां शिल्पकला को पसंद कर रहे हैं, वहीं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आनंद ले रहे हैं। उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र पटियाला की तरफ से क्राफ्ट और सरस मेले में ब्रहमसरोवर के घाट पर बने सांस्कृतिक मंच पर सबसे पहली प्रस्तुति हिमाचल प्रदेश के लोक कलाकारों ने दी। इन लोक कलाकारों ने हिमाचल के लोक नृत्य और वेशभूषा के माध्यम से अपने प्रदेश की संस्कृति को दर्शाने का प्रयास किया। हिमाचल की प्रस्तुति के बाद उत्तराखंड के लोक कलाकारों ने छपेली लोक नृत्य की प्रस्तुति दी।
 
Have something to say? Post your comment