Thursday, June 27, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा में हर रोज हो रहे हैं तीन हत्याएं, पांच दुष्कर्म और दस अपहरण : सुरजेवालाICC क्रिकेट वर्ल्ड कप:भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला कियाहरियाणा विधानसभा चुनाव में सभी सीटों पर उम्मीदवार को उतारेगी स्वराज इंडिया:राजीव गोदाराप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात से पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट करके कहा है कि भारत को अमेरिका पर लगाए गए टैरिफ वापस लेने होंगेHaryana Govt nominates Krishan Lal of village Baniyani as a non-official member of the District Grievances Readdressal Committee. Rohtakस्विट्जरलैंड में नीरव मोदी और पूर्वी मोदी के चार बैंक खाते सीजMG Hector SUV हुई भारत में लॉन्च, TATA Harrier से सस्तीश्रीनगर में नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता अब्दुल रहीम राथर के ठिकानों पर IT की छापेमारी
Bihar

कितना करीब लाएगा कॉरिडोर/ पाक सेना के रुख से तय होगा

November 29, 2018 05:49 AM

COURTESY NBT NOV 29

कितना करीब लाएगा कॉरिडोर/ पाक सेना के रुख से तय होगा


पाकिस्तान की तमाम कोशिशों के बीच उसका पुराना रेकॉर्ड भारत को विश्वास करने से रोकता है। दरअसल 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी और नवाज शरीफ ने दिल्ली और लाहौर के बीच एक दोस्ताना बस चलाई थी। ऐसा लगा कि सालों से पड़ी दुश्मनी की परतें हटने वाली हैं लेकिन तभी पाकिस्तान ने करगिल में जंग के हालात बना दिए। रिश्तों में सुधार के बजाय दोनों देशों के बीच करगिल युद्ध हो गया।
करतारपुर कॉरिडोर से भारत-पाक रिश्तों पर जमी बर्फ पिघलने की आस!
Narendra.Mishra

@timesgroup.com
•नई दिल्ली : क्या करतारपुर कॉरिडोर से भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में चली आ रही तनातनी कम होगी/ क्या दोनों देशों के करतारपुर कॉरिडोर के मुद्दे पर साथ आने के बाद आगे के लिए उम्मीद की रोशनी दिखने लगी है/ उम्मीदों से भरे ऐसे सवाल तब उठे जब सिख धर्म के संस्थापक श्री गुरु नानक देवजी की 550वीं जयंती के मौके पर भारत-पाक ने श्रद्धालुओं के लिए पाकिस्तान स्थित करतारपुर साहिब के दर्शन करने के लिए अपने-अपने इलाकों में न सिर्फ कॉरिडोर बनाने का ऐलान किया, बल्कि पाक ने अपने यहां हुए आयोजन में भारत के नेताओं को भी न्योता दे दिया।

इमरान खान के सत्ता संभालने के बाद यह पड़ोसी देश की ओर से भारत के साथ पहली सकारात्मक पहल थी, जिसे भारत ने भी स्वीकारा और दो मंत्रियों को भी पाकिस्तान भेजा। वहीं पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू भी पाकिस्तान गए। हालांकि इन घटनाक्रमों के बीच अब भी इस कवायद के दूरगामी असर पर संदेह बरकरार है। जानकारों के अनुसार भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्तों की कठोरता को पिघलाना इतना आसान नहीं है। दरअसल, 2016 में उरी हमले और उसके बाद सर्जिकल स्ट्राइक के बाद दोनों देशों के संबंध लगातार खराब होते चले गए। ऐसे में दो साल में पहली बार कोई सकारात्मक पहल देखी जा रही है।

कोशिश का दौर जारी रहा : करतारपुर कॉरिडोर से पहले भी इमरान खान ने सत्ता संभालने के तुरंत बाद भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर बातचीत का रास्ता खोलने का आग्रह किया था। सार्क बैठक में शामिल होने के लिए भी इमरान सरकार ने पीएम मोदी से आग्रह किया। हालांकि इन पहल के बीच पाकिस्तान का दूसरा चेहरा हमेशा सामने आता रहा। बावजूद इसके करतारपुर के रूप में एक ऐसा भावनात्मक मुद्दा सामने आया, जिसपर दोनों देशों ने सकारात्मक रुख दिखाया। पाकिस्तान ने जहां कई वर्षों की मांग को पूरा करने की दिशा में कदम बढ़ाया।

वहीं, भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने करतारपुर की तुलना बर्लिन की दीवार से करके संकेत दिया कि अगर पहल सकारात्मक और सही इरादों से हुई हो तो चाहे रिश्ते कितने भी खराब क्यों न हों, पटरी पर लाए जा सकते हैं।

कश्मीर के हालात से होगा तय : दरअसल, पाक के भारत से कैसे रिश्ते होंगे, यह वहां की सरकार से अधिक सेना के रुख पर निर्भर रहता है। करतारपुर कॉरिडोर खुलवाने में पाक आर्मी प्रमुख कमर बाजवा ने भी भूमिका निभाई। हालांकि, जब तक पाक कश्मीर में आतंकवाद को शह देना बंद नहीं करता, तब तक इस तरह की पहल के कोई मायने नहीं रहेंगे

Have something to say? Post your comment
 
More Bihar News
चमकी बुखार से मुजफ्फरपुर में मरने वालों की गिनती 132 पहुंचीं, बिहार में अबतक 150 की मौत पटनाः बच्चों को कुचलने वाले ड्राइवर को भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला Toxins behind ‘litchi deaths’? 77% AES families below poverty line 82% Work As Labourers: Bihar Social Audit बिहार: 21-22 जून को बारिश और बिजली गिरने से 10 की मौत, पीड़ितों को 4-4 लाख का मुआवजा बिहार में चमकी बुखार से अबतक 147 बच्चों की मौत बिहार: ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में SKMCH अस्पताल के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर सस्पेंड बिहार के वैशाली जिले के हरिवंशपुर गाँव 7 बच्चे मारे गए। लेकिन कोई सांसद या विधायक नहीं आया है गाववालो ने केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और स्थानीय विधायक को खोजने वाले को 5000 रुपये का इनाम देने की घोषणा की रांची: लालू यादव से मिलने पहुंचे तेज प्रताप यादव बिहार के मुजफ्फरपुर में SKMCH अस्पताल के पीछे नरकंकाल मिले