Sunday, September 15, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
मुख्यमंत्री प्रदेश के युवाओं का हक मारकर हरियाणा को गुजरात-2 बना रहे: दिग्विजय चौटालाआंध्र में नाव पलटने के बाद इलाके में सभी नाव सेवाएं तत्काल बंद करने के आदेशअनुच्छेद 370 पर गुलाम नबी आजाद समेत अन्य याचिकाओं पर कल सुप्रीम कोर्ट में सुनवाईआंध्र प्रदेश में डूबी 60 सैलानियों से भरी नाव, 7 लोगों की मौतअसम की तरह हरियाणा में भी राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) लागू किया जायेगा': मनोहरलालराजस्थान: डैम का पानी छोड़े जाने से रोड ब्लॉक, कल से स्कूल में फंसे 350 बच्चे और 50 शिक्षकतमिलनाडु: बैनर गिरने से लड़की की मौत के मामले में AIADMK नेता के खिलाफ FIR 16 सितंबर को दो दिवसीय हरियाणा दौरे पर जाएंगे बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा
 
Niyalya se

बंसीलाल विल मामला: श्रुति की याचिका को खारिज किया

November 03, 2018 09:07 PM

भिवानी : पूर्व मुख्यमंत्री स्व.बंसीलाल की वसीयत को लेकर उपजे विवाद का आज पटाक्षेप हो गया। भिवानी की अदालत ने वसीयत के मामले में सुनवाई करते हुए श्रुति चौधरी द्वारा दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया जबकि पूर्व विधायक रणबीर सिंह महेंद्रा द्वारा पेश की गई ट्रस्ट की वसीयत को सही पाया। यहां सिविल जज जूनियर डिविजन आशुतोष की अदालत ने शनिवार को यह फैसला सुनाया है। अदालत में दायर याचिका
में चौधरी बंसीलाल की पौत्री श्रुति चौधरी ने कहा था कि 6 जून 2004 को उसके पिता सुरेंद्र सिंह व दादा चौधरी बंसीलाल ने संयुक्त रूप से एक
वसीयत उसके हक में की थी। जिसमें उसे कोठी समेत अन्य सम्पत्ति का
उत्तराधिकारी बताया गया था। यह विल ही असली है। वहीं दूसरी तरफ रणबीर सिंह महेंद्रा ने अदालत में अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि 19 जुलाई 2005में चौधरी बंसीलाल ने चण्डीगढ़ के सब रजिस्ट्रार कार्यालय में एक विल रजिस्टर्ड करवाई थी,जिसमें कहा गया कि उनकी सम्पत्ति की हकदार उनकी पत्नी
विधा देवी हैं। चौधरी बंसीलाल की मृत्यु के उपरांत विधा देवी ने चौधरी
बंसीलाल की सम्पत्ति व अपनी स्वयं की सम्पत्ति को मिलाकर चौधरी बंसीलाल मैमोरियल ट्रस्ट का गठन किया। विधा देवी स्वयं उसकी प्रधान बनी और पारिवारीक सदस्यों को भी शामिल किया गया। इस विल को श्रुति चौधरी ने अदालत में चुनौती दी थी और बंसीलाल की सम्पत्ति पर अपना हक जमाया था।जिस पर अदालत में लंबी सुनवाई हुई। दोनों पक्षों की तरफ से अदालत में कई गवाहियां भी करवाई गई। रणबीर सिंह महेंद्रा की तरफ से अदालत में पेश हुए
वरिष्ठ अधिवक्ता अविनाश सरदाना ने बताया कि शनिवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए यहां सिविल जज जूनियर डिविजन आशुतोष की अदालत ने श्रुति चौधरी
द्वारा दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया और रणबीर सिंह महेंद्रा द्वारा प्रस्तुत की गई विल को असली करार दिया। अदालत ने कहा कि श्रुति चौधरी द्वारा प्रस्तुत की गई विल रजिस्टर्ड नहीं है जबकि दूसरे पक्ष ने रजिस्टर्ड विल प्रस्तुत की। इसलिए यह प्रोपर्टी चौधरी बंसीलाल मैमोरियल ट्रस्ट की ही रहेगी।

Have something to say? Post your comment
More Niyalya se News
पीएम मोदी को धमकी देने वाले पाकिस्तानी पॉप स्टार को 2 साल की जेल Penalty to employees takes effect from date of imposition, rules HC ‘Fine Imposed Since Misconduct Committed Only In Special Circumstances’ SC refers Centre’s plea to larger bench AAP विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी को गिरफ्तारी से फिर राहत, मिली अग्रिम जमानत दिल्ली: राउज एवेन्यू कोर्ट ने रॉबर्ट वाड्रा को दी विदेश यात्रा की इजाजत कोलकाता हाईकोर्ट से पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को झटका, गिरफ्तारी से राहत नहीं HC summons Sonipat DEO for assistance in petition challenging Rai MLA’s election बीकानेर लैंड डील: जोधपुर कोर्ट में 26 सितंबर को होगी रॉबर्ट वाड्रा के मामले की अगली सुनवाई NBCC को SC ने आम्रपाली के 2000 फ्लैट बेचने के लिए रिपोर्ट सौंपने का दिया निर्देश छत्तीसगढ़: अजीत जोगी के बेटे अमित जोगी को राहत नहीं, हाईकोर्ट से जमानत याचिका खारिज