Monday, June 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
भाजपा राज में सबसे ज्यादा युवा बेरोजगार, नौकरियों में धांधली और सबसे ज्यादा पेपर लीक हुए - दुष्यंत चौटालाआज से नए आयकर नियम; डिफाल्टर सिर्फ जुर्माना देकर बच नहीं सकतेJ& K के पुलवामा में सेना के काफिले पर आतंकी हमला,WEST BENGAL -डॉक्टरों ने खत्म की हड़ताल,CHENNAI-No hotel, IT firm in Chennai shut down due to drinking water scarcity:सुप्रीम कोर्ट सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की सुरक्षा और सुरक्षा की मांग करने वाली याचिका पर कल सुनवाई पिछले सप्‍ताह शनिवार को माता वैष्‍णों देवी की पवित्र गुफा में 47 हज़ार से अधिक तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए।बिहार: औरंगाबाद में लू से मौतें, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय को दिखाए गए काले झंडे
Haryana

एडवोकेट हेमंत ने राष्ट्रपति सचिवालय में आर.टी.आई. दायर कर हाईकोर्ट के चार अतिरिक्त जजों की नियुक्ति बारे जानकारी मांगी

October 28, 2018 03:13 PM

चंडीगढ़- गत दिवस 27 अक्टूबर, 2018को भारत सरकार के विधि एवं न्याय मंत्रालय के अधीन आने वाले न्याय विभाग ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के लिए चार अतिरिक्त जजों की नियुक्ति अधिसूचना जारी की जिसमे यह वर्णित है कि भारत के राष्ट्रपति भारतीय संविधान के अनुच्छेद 224(1)  के तहत श्रीमती मंजरी नेहरु कौल, श्री हरसिमरन सिंह सेठी, अरुण मोंगा एवं मनोज बजाज को पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का दो वर्षो के लिए अतिरिक्त जज इसी वरिष्ठता क्रमांक में नियुक्त करते हैं. इस अधिसूचना का अध्ययन करने  के पश्चात हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने आज भारत के राष्ट्रपति सचिवालय में एक आर.टी.आई. याचिका दायर की है जिसमे उन्होंने सर्वप्रथम उक्त नियुक्त हुए चारो अतिरिक्त जजों के सम्बन्ध में  राष्ट्रपति महोदय द्वारा हस्ताक्षरित वारंट ऑफ़ अपॉइंटमेंट (नियुक्ति आदेशो) की प्रतिलिपियों  की मांग की है. इसके अलावा एडवोकेट हेमंत ने दिनांक 26 अक्टूबर 2018 को पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में परमानेंट (स्थाई जजों) के खाली पड़े पदों की संख्या बारे में सूचना मांगी है. लिखने योग्य है की 1जुलाई 2014 को हाई कोर्ट के जजों की कुल संख्या बढाकर 85 कर दी गयी थी जिसमे से 64 स्थायी एवं 21 अतिरिक्त जज होंगे. आज की तारिख में हाई कोर्ट में38 स्थायी जज एवं 9 अतिरिक्त जज हैं.  इसके साथ ही  हेमन्त ने जानकारी मांगी है की जब 26 अक्टूबर 2018 को पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में स्थायी जजों के खाली पद पड़े थे, तो उक्त नियुक्त किये जा रहे  चार  जजों की पहले तत्कालीन हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस द्वारा अतिरिक्त जजों के तौर पर अनुसंशा और फिर अतिरिक्त जज के तौर पर ही  नियुक्ति क्यों की गयी है जबकि केंद्र सरकार हाई कोर्ट के जजों एवं चीफ जस्टिस के नियुक्ति एवं स्थानान्तरण बाबत बनाये गये मेमोरेंडम ऑफ़ प्रोसीजर के क्लॉज़ 22 के अनुसार अगर किसी हाई कोर्ट में स्थायी जजों के पद खाली पड़े हैं, तो हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस द्वारा जजों की नियुक्ति बारे अनुसंशा स्थायी जज बनाये जाने के बारे में की जायेगी न कि अतिरिक्त जज बनाये जाने के बारे में. एडवोकेट हेमंत ने इस बाबत सम्पूर्ण जानकारी की मांग की है. 

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
भाजपा राज में सबसे ज्यादा युवा बेरोजगार, नौकरियों में धांधली और सबसे ज्यादा पेपर लीक हुए - दुष्यंत चौटाला
J& K के पुलवामा में सेना के काफिले पर आतंकी हमला, आज इनेलो पार्टी ने की अपने युवा शाखा के प्रदेश पदाधिकारियों की सूची जारी
Haryana Staff Selection Commission issues notice for interview for the post of Auction Recorder HSAMB
SUPREME COURT का मतपत्रों से मतदान कराने की याचिका पर तत्काल सुनवाई से इनकार HARYANA-भाजपा के मिशन-75 पर आईएएस अफसरों का विश्लेषण आजाद हिंद फौज के 170 गुमनाम सिपाहियों का रिकार्ड तलाश कर सरकार को भेजा, डीसी 19 पत्र लिख चुके, अब तक किसी को नहीं मिला सम्मान हवाला के 800 कराेड़ रुपयों पर काॅटन का हरियाणा से पंजाब तक पनप रहा था काराेबार, 38 कराेड़ की वसूली CHANDGIARH- 10 साल पहले 8 करोड़ से कराया हरियाणा विधानसभा में निर्माण, अब हटा रहा प्रशासन PANCHKULA- एग्रो मॉल में फ्लावर मार्केट व एपल ट्रेडिंग कॉल सेंटर खोलने की तैयारी