Thursday, January 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
छत्रपति हत्याकांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम , कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह को सीबीआई कोर्ट ने उम्र कैद की सजा और पचास-पचास हजार का जुर्माना भी देना होगा पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस:थोड़ी देर में राम रहीम की सजा पर फैसला आने की संभावनाबुलंदशहरः गुब्बारा भरने वाले गैस सिलेंडर ब्लास्ट, एक दर्जन से ज्यादा बच्चे झुलसेपंचकूला में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केसः कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जारीपत्रकार हत्याकांड: CBI ने राम रहीम को फांसी देने की मांग कीजस्टिस दिनेश महेश्वरी और संजीव खन्ना कल लेंगे SC के न्यायमूर्ति पद की शपथबीमारी का इलाज है, पर कांग्रेस नेताओं की सोच का इलाज नहीं: पीयूष गोयलPM मोदी ने वाइब्रेंट गुजरात समिट का उद्घाटन किया
Chandigarh

देव समाज कॉलेज ऑफ एजूकेशन में रूसा के तहत कार्यशाला आयोजित

October 23, 2018 09:29 PM

देव समाज कॉलेज ऑफ एजूकेशन, सेक्टर 36-बी, चंडीगढ़ मेें चंडीगढ़ प्रशासन के स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टरेट (एसपीडी) के सहयोग से, राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) के अंतर्गत 'उच्च शिक्षा में अकादमिक प्रदर्शन संकेतक (एपीआई) स्कोर के माध्यम से मानकों के रखरखाव ' विषय पर एक-दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

 

रूसा चंडीगढ़ के असिस्टेंट स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टर (एएसपीडी), जाने-माने विद्वान डॉ. दलीप कुमार ने वर्कशॉप का उद्घाटन किया। उन्होंने 'शिक्षण कार्य को एक पेशे की जगह एक मिशन ' बताते हुए उच्च शिक्षा के क्षेत्र में हुए ताजा सुधारों का भी उल्लेख किया और अनुसंधान के क्षेत्र में आईसीटी संसाधनों तथा बुनियादी सुविधाओं के उपयोग पर जोर दिया। कार्यशाला के तहत दो तकनीकी सत्र हुए।

 

प्रथम तकनीकी सत्र का संचालन पंजाब यूनिवर्सिटी में बायोकैमिस्ट्री विभाग के प्रोफेसर रजत संधीर ने किया। उन्होंने उच्च शिक्षा के स्तर को उठाने के लिए व्यावसायिक विकास के जरिये शिक्षकों की जवाबदेही बढ़ाने पर जोर दिया। दूसरे तकनीकी सत्र का संचालन पीयू के गणित विभाग के प्रोफेसर ए के भंडारी द्वारा किया गया। उन्होंने पदोन्नति के विभिन्न चरणों में विभिन्न श्रेणियों के तहत एपीआई स्कोर के बारे में प्रतिभागियों की जागरूकता बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया।

 

कार्यशाला अपने उद्देश्य में सफल रही। देव समाज कॉलेज ऑफ एजूकेशन की प्रिंसीपल डॉ. (श्रीमती) एगनिस ढिल्लों ने उपस्थित लोगों को संबोधित किया और कार्यशाला के प्रतिनिधियों का स्वागत किया। अंत में, डॉ. अनुराधा अग्निहोत्री ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

 
Have something to say? Post your comment