Wednesday, March 20, 2019
Follow us on
Haryana

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया जींद के ऐतिहासिक तीर्थ स्थलों का दौरा

October 13, 2018 06:12 PM
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल राज्य के पहले ऐसे मुख्यमंत्री बन गए है जिन्होंने राजनीति से ऊपर उठकर विश्व को कर्म का सिद्धांत देने वाली गीता की धरती धर्मक्षेत्र कुरूक्षेत्र की 48 कोस की परिधि में कुरूक्षेत्र, करनाल, कैथल, जींद व पानीपत जिलों में पडऩे वाले लगभग 134 तीर्थ स्थलों का जीर्णोद्धार कराने की एक नई पहल की है और इस कडी में आज उन्होंने जींद जिले के 9 तीर्थ स्थलों का दौरा कर पूजा अर्चना व परिक्रमा की और तीर्थ स्थलों के जीर्णोद्धार के लिए करोड़ों रूपए की राशि जारी करने की घोषणा की। 
जींद जिले के तीर्थ स्थलों के अपने दौरे के दौरान भारी संख्या में उपस्थित लोगों से गदगद मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतवर्ष आध्यात्मिक महत्व व तीर्थ स्थलों का देश है और हरियाणा भी इसमें पीछे नहीं है। कुरूक्षेत्र की पावन धरा पर भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का अमर संदेश दिया। महाभारत का युद्ध धर्म व न्याय के लिए था। उन्होंने कहा कि हमारा समाज, देश व प्रांत सब ठीक होना चाहिए प्रदेश खुशहाल हो और सत्यवादी लोगों का हो, न्याय के लिए होना चाहिए गलत को गलत कहने का संकल्प हर व्यक्ति को लेना चाहिए चाहे वह उसके स्वयं के परिवार से क्यों न हों। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2015 से लगातार तीन वर्ष से हमने गीता के संदेश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाने की कोशिश की है और पिछले वर्ष गीता महोत्सव के दौरान लगभग 25 लाख आगंतुकों ने ब्रम्हसरोवर का दौरा किया। जिसमें 20 देशों के विदेशी गीता मनीषियों ने भी भाग लिया। उन्होंने कहा कि कुरूक्षेत्र की 48 कोस की परिधि में पडऩे वाले तीर्थ स्थलों के जीर्णोद्धार से गीता महोत्सव के दौरान तो बाहर से आने वाले श्रद्धालु इन तीर्थ स्थलों का दौरा तो करेगें ही साथ ही स्थानीय लोगों के लिए छोटे मोटे रोजगार के अवसर उपलब्ध होगें। उन्होंने कहा कि विशेष बस सेवा इन तीर्थ स्थलों के लिए लगाई गई है। उन्होंने कहा कि इन तीर्थ स्थलों के पक्के रास्ते, घाट निर्माण, सरोवर में साफ पानी, शैड, पक्की परिक्रमा ,हाईमास्क लाईट तथा शौचालयों का निर्माण करवाया जाएगा। 
मुख्यमंत्री ने आज सबसे पहले आसन्न गांव स्थित अश्वनी तीर्थ का दौरा किया उसके बाद बराह कलां, पांडू पिंडारा, भूतेश्वर तीर्थ, वंशमूलक तीर्थ बरसोला, ईक्कस, रामराय तथा पोंकरी खेड़ी गांव स्थित पुष्कर तीर्थ का दौरा किया तथा लोगों को सम्बोधित किया। 
तीर्थ स्थलों के जीर्णोद्धार करवाने की अपनी पहल के साथ-साथ मुख्यमंत्री ने सम्बंधित ग्राम पंचायतों द्वारा रखी गई विकास परियोजनाओं की मांगों को भी पूरा करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि विकास कार्यो के लिए धन की कमी आड़े नहीं आएगी। हालांकि पिछली सरकारों के पास भी फंड व बजट की कोई कमी नहीं थी परंतु उन्हें टांका मारने की आदत थी, जो  हमने खत्म की है। मुख्यमंत्री ने लोगों को भरोसा दिलाया कि अब ऊपर से भेजे गए एक रूपए में से एक रूपया ही विकास कार्य पर खर्च किया जाता है। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता का संदेश देश के लोगों को दिया है और 2019 में पडऩे वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर एक स्वच्छ भारत देश के लोगों को सौंपने का उन्होंने लक्ष्य लिया है। उन्होंने कहा कि हमने देवालयों विद्यालयों व  चिकित्सालयों को स्वच्छ बनाने का अभियान चलाया है। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की कि वे तीर्थ स्थलों के महत्व को युवा पीढ़ी तक अवश्य पहुंचाएं। साल में एक बार सरोवरों की सफाई आपसी सहयोग से करें। उन्होंने कहा कि जोहड़ों की सफाई के लिए सरकार ने हरियाणा तालाब प्राधिकरण का गठन किया है। जिसके अंतर्गत तालाबों की साफ सफाई व उनके पानी का उपयोग सिंचाई व अन्य आवश्यकताओं में उपयोग करने के लिए प्रस्ताव बनाए गए है। ग्रामीण जीवन साफ सुथरा व स्वच्छ हो यही उनका लक्ष्य है। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे पहले वे कुरूक्षेत्र जिले के 14 तीर्थ स्थलों, करनाल जिले के 13 तीर्थ स्थलों का दौरा कर चुके है तथा आज जींद जिले के 9 तीर्थ स्थलों का दौरा किया है। इसके बाद वे कैथल व पानीपत जिले में पडने वाले तीर्थ स्थलों का दौरा करेंगें। उन्होंने कहा कि धर्मक्षेत्र की 48 कोस की परिधि में पडने वाले तीर्थ स्थल हमारी धरोहर है और इनके धार्मिक महत्व को जमीनी हकीकत में जानने की उन्होंने पहल की है। जिसके दौरे के कार्यक्रम तैयार किए है। उन्होंने कहा कि 48 कोस की परिक्रमा करने के तीर्थ स्थलों के दौरे से वे स्वयं को धन्य मानते है। 
यहां यह भी उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने सबका साथ सबका विकास के विजन साथ हर विधानसभा क्षेत्र में पहले व्यक्तिगत रूप से दौरा कर वहां की मांग के अनुरूप विकास परियोजनाओं के लिए करोड़ों रूपए की ग्रांट जारी की है और इसी कड़ी में आज उन्होंने जींद जिले में 18 करोड़ रूपए की अनुमानित लागत से पूरी की जाने वाली 13 विकास परियोजनाओं की आधारशिला व उद्घाटन किया। 
तीर्थ स्थलों के दौरे के समय मुख्यमंत्री के साथ सांसद रमेश कौशिक, विधायक श्रीमती प्रेमलता व जसबीर देशवाल, ओएसडी अमरेन्द्र सिहं,पूर्व सांसद सुरेन्द्र बरवाला, प्रदेश सचिव जवाहर सैनी, जिला अध्यक्ष अमरपाल राणा, स्वामी राघवानंद, रामपाल लोट, संतोष दनौदा, सज्जन गर्ग, पंडित रामफल शर्मा, डा. ओपी पहल, सीताराम बागड़ी,शुगर फैडरेशन के चेयरमैन चन्द्र प्रकाश कथूरिया, जिला उपायुक्त अमित खत्री, पुलिस अधीक्षक अरूण नेहरा के अलावा जिला प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी के अलावा तीर्थ स्थलों पर बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।  
 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
‘चप्पल’ सबकी साथी, पूरी उम्र देगी आपका साथ- दिग्विजय गठबंधन के लिए नहीं, विलय के लिए भाजपा के आगे नतमस्तक है इनेलो - दुष्यंत चौटाला चुनाव के दौरान आयकर विभाग की रहेगी नकद लेन-देन पर नजर रंगों का यह अनूठा भारतीय त्योहार एकता और भाईचारे के बंधन को मजबूत करने का अवसर प्रदान करता है:मनोज यादव अनिल विज का राहुल और प्रियंका पर हमला- हम चौकीदार, आप पप्पू लिख लें हरियाणा: CRPF की 80वीं वर्षगांठ में शामिल हुए NSA अजीत डोभाल 10% से अधिक शोध में किया कट-कॉपी-पेस्ट तो नहीं हो पाएगी पीएचडी BJP-रोहतक से धनखड़-अरविंद पर हुई चर्चा मंत्री विज ने खेमका की तारीफ कर दिए थे 10 में 9.92 अंक, सीएम ने किए 9, कहा था- बढ़ाकर किया वर्णन,-हाईकोर्ट ने दिए टिप्पणी हटाने के निर्देश, कहा- सत्यनिष्ठा से काम करने वालों को प्रोटेक्ट करना चाहिए BJP shortlists probables for all Haryana seats