Saturday, February 23, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा पुलिस में भारी फेरबदल,108 सबइंस्पेक्टर को इधर से उधर कियाचण्डीगढ़: विधानसभा में महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल का जवाबहरियाणा सरकार द्वारा आगामी 24 फरवरी, 2019 को फरीदाबाद में राज्य स्तरीय ‘प्लेसमैंट समिट-2019’ समारोह का आयोजन किया जाएगामनोहर लाल 23 फरवरी को जींद के एकलव्य स्टेडियम से ‘जींद मैराथन-2019’ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना करेंगे, जो पुलवामा आंतकी हमले के शहीदों को समर्पित होगीअपनी सर्वोत्तम खेल नीति के कारण आज हरियाणा खेलों का हब बन गया: mसत्यदेव नारायणकैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि आजादी के बाद देश की रक्षा हेतू अपने प्राणों का बलिदान देने वाले शहीदों की याद में दिल्ली में बना राष्ट्रीय युद्ध स्मारक देश को समर्पित होने जा रहा है। इस स्मारक का उदघाटन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 25 फरवरी को करेंगेहरियाणा विधान सभा के बजट सत्र की कार्यवाही जारीकविता जैन ने कहा कि फरीदाबाद जिले में पानी की कमी को पूरा करने के लिए 210 अतिरिक्त ट्यूबवेल लगाने का प्रस्ताव है जिसे जल्द ही कार्यान्वित किया जाएगा
National

सर्जिकल स्टाइक बनाम यूजीसी

September 26, 2018 07:40 PM

कहते हैं कि युद्ध और प्यार में हर चीज, हर क्रिया जायज है । पर अब यह कथन लोकतंत्र में चुनावों पर भी लागू हो रहा है । चुनाव आते ही, मतदाताओं को लुभाने, उनका ध्यान आर्किषत करने के लिए सरकार व विपक्ष के राजनैतिक दल तरह-तरह के नगाड़े बजाने शुरू कर देते हैं । देश व समाज संस्थाओं से बनता है, पर संस्थाओं की स्वतंत्रता व उनकी स्वायतता पर निरंतर प्रहार जारी है, इसका ताजा उदाहरण यूजीसी द्वारा सभी विश्वविद्यालयों को यह आदेश जारी करना है जिसमें सभी महाविद्यालयों में 29 सितम्बर, 2016 को सर्जिकल स्टाइक उत्तर पश्चिमी सीमा पर भारत द्वारा किया गया था । उस सफल अभियान को 29 सितम्बर के दिन के रूप में मनाया जाए । हद हो गई है, विश्वविद्यालयों में जो कि ज्ञान अर्जन, स्वतंत्र व नये विचारों के आदान-प्रदाल, अनुसंद्यान का केंद्र होते है, सरकार के हितों व सत्तारूढ़ पार्टी के हितों के संवद्यर्न के लिए खुलम-खुल्ला प्रयोग किया जा रहा हैं । युवा पीढ़ी को राष्ट प्रेम व राष्टीयता की भावना का संचार करने के लिये, उन्हें इस प्रकार की जानकारियां देना इनसे अवगत कराने के लिए यू.जी.सी ने विश्वविद्यालयों को 29 सितम्बर के दिन सर्जिकल स्टाइक की सफलता पर सेमिनार संगोष्ठियां, निबन्ध लेखन तथा स्लोगन लेखन इत्यादि प्रतियोगिताएं रखने का आदेश अपने अन्तर्गत आने वाले महाविद्यालयों को जारी किया है । वर्तमान सरकार अपनी सामरिक व स्टैटाजिक सफलता, जोकि एक आर्मी एक्शन था. उसकी वाह-वाही लूटना चाहती है तथा विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले युवा, क्योंकि वोटर्स भी हैं उन्हें प्रभावित करना चाह रही है । मतलब 2014 चुनावों में पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह को कमजोर बता, नरेन्द्र मोदी जी ने अपने पक्ष में हवा बनाई तथा अपनी 56 इंची छाती का हवाला दे पाकिस्तान के विरू़ध कड़ा व सशक्त रूख दिखाने का वायदा कर चुनाव में जीत हासिल की । उसी का प्रमाण जनता के सामने वे सर्जिकल स्टाईक के रूप में दे रहे हैं । यहां पर यह बताना जरूरी है कि पहले से भी 1948 में, 1965 में, 1971 में बड़े-बड़े अभियान पाकिस्तान के विरू़़द्ध इसी सीमा पर लड़े गए व जीते भी गये, उन्हें इस तरह सार्वजनिक रूप से भी जोकि एक आर्मी एक्शन है, युद्व है, पड़ोसी के साथ, स्मति समारोह के रुप में नहीं मनाया गया । विश्वविद्यालय व महाविद्यालय राजनीति के अखाड़े बन चुके हैं यही कारण है कि विश्व के टाप 100 युनिवर्सिटज में भारत की कोई भी युनिवर्सिटी शामिल नहीं है । एक तरफ भाारत को विश्व गुरू बनाने के सपन संजोये जा रहे है तो दूसरी तरफ विश्वविद्यालयों की बची-खुची गरिमा, जो कि स्वतंत्रता व स्वायत्ता से प्राप्त होती है, उसे रोंदा जा रहा है । स्वतंत्र चिंतन, मनन व लेखन के लिए विश्वविद्यालय ही अगर उन्मुक्त वातावरण प्रदान नहीं करते, युवा पीढ़ी को जिस दिशा में हांकना चाहो, उन्हें उधर ही हांक दो। तो उस राष्ट का भविष्य कभी उज्जवल नहीं हो सकता । अंत में जुनून का दौर है. किस किस को जायें समझाने, इधर भी अक्ल के दुश्मन है, उधर भी दीवाने ।

                         डा0 क कली

Have something to say? Post your comment
 
More National News
जवानों की शहादतों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए-राजनाथ सिंह राजनाथ सिंह बोले- आतंकवाद के खिलाफ अब निर्णायक लड़ाई होगी पाकिस्तान की जमीन से आतंकवाद फैलाया जा रहा है- राजनाथ सिंह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज जाएंगे आंध्र, तिरुपति मंदिर में करेंगे दर्शन कश्मीरी छात्रों को सुरक्षा मुहैया कराने के मुद्दे पर SC में सुनवाई आज तमिलनाडुः भ्रष्ट बताने के बाद कमल हासन ने वंशवादी राजनीति के लिए DMK को कोसा Sense of National Pride Need of the Hour Sadhguru Jaggi Vasudev Mamata Govt Creates Own DRI and ED This will run parallel to the Centre’s DRI & ED & probe tax evasion cases Sena Medal awardee speaks of ‘humiliation’ Gujarat BJP govt took 7 yrs to pay Rs 3,000 प्रधानमंत्री मोदी ने 55 महीने में 93 विदेश दौरे किए; पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने 10 साल में 93 और इंदिरा गांधी ने 16 साल में 113 विदेशी दौरे किए