Tuesday, June 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा सरकार के क्लास iv कर्मचारी अब गेहू की खरीद के लिये इंटरेस्ट फ्री लोन 30 जून तकआवेदन कर सकते है हरियाणा कला परिषद द्वारा शीघ्र ही राज्य के 4 मंडलों में राष्ट्रवाद की भावना की अलख जगाने के लिए 15 दिवसीय कार्यशालाओं का आयोजन करवाया जाएगा प्रोफेसर डॉ. रंजना अग्रवाल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् के राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं विकास अध्ययन संस्थान (सीएसआईआर-एनआईएसटीएडीएस), नई दिल्ली का निदेशक नियुक्त कियाहरियाणा में 5वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 21 जून, 2019 को राज्य स्तरीय समारोह रोहतक में आयोजित किया जाएगा, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह मुख्यातिथि होंगेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक में नीतीश कुमार और अखिलेश यादव होंगे शामिलजम्मू-कश्मीर के पहलगाम में नाव पलटी, 2 पर्यटक लापताशांत इलाके में तैनात सैन्य अधिकारियों को फिर से राशन मिलेगा, भारत सरकार ने दी मंजूरीदिल्लीः टीएमसी विधायक बिस्वाजीत दास ने 12 टीएमसी काउंसलर के साथ थामा बीजेपी का दामन
National

जीवन में बढ़ता उतावलापन

September 24, 2018 04:28 PM

उतावलेपन की इस युग में हर क्षेत्र में मानव इससे जूझ रहा है। आज हर व्यक्ति इतना उतावला है कि जो स्पीड कभी गुण हुआ करती थी, अवगुण का रूप धारण करती जा रही है। हर कोई भागा जा रहा है, कहां भागा जा रहा है? किसलिये, इतना विचारने सोचने का समय नहीं है। इस उतावलेपन का परिणाम है कि जीवन में श्रेष्ठता, सत्य की खोज, गंभीरता सब गायब होती जा रही है। पत्रकारिता या खेल जगत में यह उतावलापन कुछ हद तक गुण हो सकता है, पर बिना तथ्य जाने, प्रमाण के अभाव में भी वह सब कुछ कह देना जो सुविधाजनक व स्वार्थ की पूर्ति करता हो, आज आम बात हो गई है। राजनेताओं की तो पूछो ही मत, सत्ता हथयाने व उस पर काबिल करने तथा बने रहने में इतने आतुर हैं कि नीति, मर्यादा व सिद्वांत, असूलों जैसे शब्द अब सुनाई ही नहीं देते। भाजपा अध्यक्ष ये कहते हैं अगर वो 2019 का चुनाव जीत लेते हैं तो अगले 50 वर्षों तक उनका ही राज रहेगा अर्थात प्रजातन्त्र में जो पांच वर्षीय चुनावी कंुभ लगता है वह अर्धशती तक फैल जायेगा, उधर विपक्ष वाले ‘‘मोदी शाह हटाओ’’ के एकसूत्री कार्यक्रम बनाये बैठे हैं। कहते हैं कि रास्ता चाहे कितना भी खूबसूरत, सुगम व सुविधाजनक हो, हम केवल इसलिये ही उस पर नहीं चलते हैं, बल्कि वो रास्ता किस मंजिल तक ले जायेगा, यह महत्वपूर्ण है। मंजिल अगर सही है तो रास्ता चाहे कितना भी उबड़-खाबड़ हो, कठिनाई वाला दुर्गम पथ हो, चलते जाना चाहिये। पर आज इन सब पर विचार करने, विकल्प तलाशने, तर्कसंगत चुनाव करने का न तो धैर्य है, न ही क्षमता, न ही समय किसी के पास है। ‘‘सजह पके सो मीठा होय’’ तो व्यवहार से ही नदारद है। ‘क्षण’ के इस युग में instant coffee or instant noodles पर पली बड़ी युवा पीढ़ी instant sex में लिप्त दीर्घकालीन तथा जिम्मेवारी वाले स्थायी पारिवारिक रिश्तों से कन्नी काटती नजर आती है। जीवन में गूढ़ता, गंभीरता तथ श्रेष्ठता की चाह, सिरे से ही गायब होती जा रही है। न केवल निजी जीवन में, अपितु हर जगह सार्वजनिक जीवन में, चाहे वह सामाजिक आर्थिक हो या सांस्कतिक, इस उतावलेपन ने खोखलापन पैदा कर दिया है। आज हा युवा, शीघ्रातिशीघ्र मिलियेनर व बिलियनेयर बनना चाहता है। होड़ के इस युग में तनाव, मानसिक असंतुलन, अशांति व हिंसा की तरफ बढ़ रहा है। सतही जीवन जीने का आदी हो चुका मानव केवल स्थूल व भौतिक जीवन को ही सत्य मानकर धर्म के वास्तविक अर्थ व उसके आचरण से दूर होता जा रहा है। कहते सुना था कि ‘कलयुग नहीं कर युग है यह, इस हाथ ले, उस हाथ दे’ का मतलब इतना ही समझा जाता था कि सोच समझ कर कर्म करना चाहिये कि गलत कार्य का फल इस युग में उसी वक्त मिल जाता है। पर आज यह विचार समय के भी उतावलेपन को दिखाता है। ब्रेकिंग न्यज के जमाने में समाचार रिर्पोटंग में उतावलापन आवश्यक मजबूरी व गुण हो सकता है पर वह गुण जीवन को परिभाषित करने वाला नही बनना चाहिये जैसे शौच कर्म शौच कि अगर तलब लग जाये तो शौचालय जाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये पर क्या सारा दिन सारा समय तो शौचालय में नहीं बैठा जा सकता, कोई मूर्ख ही ऐसा कर व सोच सकता है, पर यही गांठ खोलने की आवश्यकता है, क्या हमने पूरे जीवन को ऐसे दबाव व उतावलेपन की तरफ नहीं धकेल दिया है। जीवन की लय-ताल उसके सुर से उखड़ गई है। पुनः इसमें सामंजस्य बैठाने की जरूरत है। जमाना जिस तीव्र गति से बदल रहा है, उस गति की शिकायत करना शायद बेमानी होगा, पर उसके बदलने की दिशा  में सार्थक कदम उठाये जा सकते हैं। हवा को तो बहना है, ऐसे ही जीवन को तो चलना है, लेकिन किस दिशा में चलना है? यह अत्यन्त महत्वपूर्ण है। इस उतावलेपन, जल्दी लिये हुए युग में चलने व भागने के साथ-साथ, कहां जा रहे हैं, कहां मंजिल है, यह विचारना बहुत ही जरूरी है। जैसे कुशल नाविक, हवा के रूख व गति के साथ तालमेल बिठा अपने नाव को मंजिल तक ले जाता है, ऐसे ही अपने उतावलेपन व जल्दी की शक्ति का रचनात्मक प्रयोग कर सार्थक व संतुष्ट जीवन की राह पर चलना होगा।
                                 डा क कली

 
Have something to say? Post your comment
 
More National News
शांत इलाके में तैनात सैन्य अधिकारियों को फिर से राशन मिलेगा, भारत सरकार ने दी मंजूरी केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत बोले- जल्द ही बनेगा गंगा कानून, साफ होगी नदी
UNION GOVT retires 15 Officers of IRS (C&CE) in public interest with immediate effect on completing 50 years of age.
भारत सरकार ने CBIC के 15 वरिष्ठ अधिकारियों को जबरन रिटायर किया अयोध्या: 2005 में हुए आतंकी हमले के मामले में फैसला आज, नैनी सेंट्रल जेल पहुंचे दोनों पक्षो के वकील
कोटा से भाजपा सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष
लोकसभा ने घोषणा की है कि 20 जून 2019 तक शून्यकाल नहीं होगा Dance based Reality Shows-I&B Ministry Advisory to all Private Satellite TV Channels
भाजपा सांसद ओम बिरला लोकसभा में अध्यक्ष पद के लिए राजग के उम्मीदवार होंगे।
डॉक्‍टरों की अस्पताल में सुरक्षा की मांग, आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई