Tuesday, June 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा सरकार के क्लास iv कर्मचारी अब गेहू की खरीद के लिये इंटरेस्ट फ्री लोन 30 जून तकआवेदन कर सकते है हरियाणा कला परिषद द्वारा शीघ्र ही राज्य के 4 मंडलों में राष्ट्रवाद की भावना की अलख जगाने के लिए 15 दिवसीय कार्यशालाओं का आयोजन करवाया जाएगा प्रोफेसर डॉ. रंजना अग्रवाल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् के राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं विकास अध्ययन संस्थान (सीएसआईआर-एनआईएसटीएडीएस), नई दिल्ली का निदेशक नियुक्त कियाहरियाणा में 5वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 21 जून, 2019 को राज्य स्तरीय समारोह रोहतक में आयोजित किया जाएगा, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह मुख्यातिथि होंगेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक में नीतीश कुमार और अखिलेश यादव होंगे शामिलजम्मू-कश्मीर के पहलगाम में नाव पलटी, 2 पर्यटक लापताशांत इलाके में तैनात सैन्य अधिकारियों को फिर से राशन मिलेगा, भारत सरकार ने दी मंजूरीदिल्लीः टीएमसी विधायक बिस्वाजीत दास ने 12 टीएमसी काउंसलर के साथ थामा बीजेपी का दामन
Haryana

इस दिशा में बेहतर प्रयास करने की आवश्यकता है ताकि समाज से नशे की बुराई को पूरी तरह समाप्त किया जा सके: नवराज संधू

June 26, 2018 04:25 PM
हरियाणा की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती नवराज संधू ने नशे की लत की समस्या से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए  एक संगठित व एकजुट रणनीति तैयार करने पर जोर देते हुए कहा कि सभी हितधारकों को इस दिशा में बेहतर प्रयास करने की आवश्यकता है ताकि समाज से नशे की बुराई को पूरी तरह समाप्त किया जा सके। 
 
श्रीमती संधू आज यहां पंचकुला में नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर पुलिस विभाग द्वारा आयोजित 'नशीली दवाओं के दुरुपयोग को रोकना - शामिल मुद्दों‘ विषय पर एक संगोष्ठी में उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित कर रही थी।
 
नशीली दवाओं की लत के विभिन्न पहलुओं और इस समस्या से निपटने के तरीकों के बारे में सभी हितधारकों को संवेदनशील बनाने और जागरूक करने के लिए पुलिस विभाग द्वारा
आयोजित इस सेमिनार की सराहना करते हुए श्रीमती संधू ने सुझाव दिया नशे की रोकथाम के लिए रणनीतिक समूहों को राज्य, जिले के साथ साथ सामुदायिक स्तर पर भी मजबूत किया जाना चाहिए । उन्होंने कहा कि नशे की लत के खिलाफ जागरूकता पैदा करने में आम जन भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।
 
ड्रग डी एडिक्शन के लिए  रोकथाम, उपचार और पुनर्वास को तीन महत्वपूर्ण पहलू बताते हुए श्रीमती संधू ने कहा कि इस महत्वपूर्ण मुद्दे को सभी हितधारकों द्वारा बहुत गंभीरतापूर्वक और प्रभावी ढंग से हल करने की आवश्यकता है। राज्य स्तरीय कार्य बल को मजबूत करने के अलावा, नशीली दवाओं के दुरुपयोग को रोकने के लिए भी इसे एक सामाजिक अभियान के रूप में लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए अधिक उच्च दृष्टिकोण की आवश्यकता होनी चाहिए।
 
इस अवसर पर बोलते हुए मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, श्री अमित झा ने सभी संबंधित विभागों के बीच घनिष्ठ समन्वय बनाने पर जोर दिया और कहा कि नशे की लत की समस्या केवल ड्रग डी एडिक्शन केंद्रों और मानसिक स्वास्थ्य केंद्रों में नही निपटाई जा सकती। माता-पिता और अभिभावकों को भी इस खतरे की गिरफ्त में आने वाले सदस्यों के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी वहन करनी होगी। इसके अलावा, नशीली दवाओं के खिलाफ जागरूकता कार्यक्रम भी मजबूत किए जाने चाहिए। पुलिस, स्वास्थ्य, सामाजिक न्याय एवम अधिकारिता विभाग और अन्य लोगों को इस समस्या से निपटने के लिए बहुत बारीकी से और कड़ाई से कार्य करना की आवश्यकता है। साथ ही, संबंधित अधिकारियों को नशीली दवाओं के दुरुपयोग को बढ़ावा देने में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कदम उठाने होंगे। इसके अलावा, पुनर्वास केंद्रों को और बेहतर किया जाना चाहिए।
 
प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए, पुलिस महानिदेशक, श्री बी एस संधू ने कहा कि समाज के लिए नशीली दवाओं का सेवन बहुत गंभीर समस्या बन गई है और पुलिस विभाग द्वारा नशीली दवाओं के दुरुपयोग को रोकने के लिए गंभीर प्रयास किए जा रहे हैं। इस बुराई के खिलाफ लड़ने के लिए पुलिस विभाग पूरी तरह से मुस्तैद है। राज्य में ड्रग पेडलरों पर कार्रवाई करने के लिए एक महीने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है जो 20 जुलाई, 2018 तक जारी रहेगा। इसके तहत, पुलिस ने पिछले दो महीनों के दौरान अकेले सिरसा में 100 लोगों को गिरफ्तार किया है।
 
एक पड़ोसी राज्य में नशे के व्यापार को बढ़ावा देने में एक पुलिस अधिकारी की भागीदारी का जिक्र करते हुए डीजीपी ने कहा कि अगर राज्य पुलिस का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी इस तरह के गंभीर अपराध में शामिल पाया जाता है तो कानून के अनुसार उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि ऐसे सेमिनार नशीली दवाओं की लत और इसके नकारात्मक गिरावट के बारे में जागरूकता बढ़ाने में काफी सहायक सिद्ध होंगे। नशे रूपी सामाजिक बुराई की रोकथाम के लिए एक रणनीति के साथ-साथ परामर्श, दंडनीय कार्यवाही और समेकित प्रयासों की आवश्यकता है। इस संगोष्ठी के परिणाम प्रदेश में नशे की रोकथाम और अन्य समकक्ष मुद्दों पर बेहतर रणनीति तैयार करने में सहायक सिद्ध होंगे।
 
डीजीपी मुख्यालय श्री के.के. मिश्रा, भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल, श्री चेतन मित्तल,एडीजीपी एसटीएफ, पंजाब, श्री हरप्रीत सिंह सिद्धू, एडीजीपी प्रशासन, श्री सुधीर चौधरी, एडीजीपी ऑपरेशन्स, श्री ए एस चावला,  वरिष्ठ वकील श्री डी एस बाली और श्री अतुल लखनपाल, डीआईजी ओसीयू पंजाब श्री कौस्तुभ शर्मा सहित पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग, सामाजिक न्याय एवम अधिकारिता विभाग और गैर सरकारी संगठनों के लगभग 150 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।
 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा -क्लास iv कर्मचारी अब गेहू की खरीद के लिये इंटरेस्ट फ्री लोन 30 जून तकआवेदन कर सकते है हरियाणा कला परिषद द्वारा शीघ्र ही राज्य के 4 मंडलों में राष्ट्रवाद की भावना की अलख जगाने के लिए 15 दिवसीय कार्यशालाओं का आयोजन करवाया जाएगा प्रोफेसर डॉ. रंजना अग्रवाल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् के राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं विकास अध्ययन संस्थान (सीएसआईआर-एनआईएसटीएडीएस), नई दिल्ली का निदेशक नियुक्त किया हरियाणा में 5वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 21 जून, 2019 को राज्य स्तरीय समारोह रोहतक में आयोजित किया जाएगा, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह मुख्यातिथि होंगे
22 प्रोबेशनर्स आईपीएस पहुंचे पुलिस मुख्यालय डीजीपी हरियाणा से की मुलाकात
राहुल गांधी के इनकार के बाद अधीर रंजन चौधरी को चुना गया लोकसभा में कांग्रेस का नेता
HARYANA invites application for grant of CLU permission for Guest or Boarding House in Residential Zone
CHANDIGARH-City lawyer writes to CJI for day-to-day hearing in stray dog case pending in SC HARYANA DGP finds faults at Haryana’s ‘cleanest’ police station in Pkl Hooda will leave Cong: BJP min