Wednesday, July 24, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
प्रदेश में 3 दिन भारी बारिश के आसार, 13 जिलों में ऑरेंज अलर्टकर्नाटक: BJP कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल तैनातपाकिस्तान से PoK पर बात होगी: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंहमध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की Z कैटेगरी की सुरक्षा बरकरार रहेगीदिल्ली के सदर बाजार में 5 मंजिला इमारत गिरी, कोई हताहत नहींपंजाब: जिलाधिकारियों को नोटिस जारी, अगले 3 दिन राज्य में भारी बारिश के लिए तैयार रहने को कहाहरियाणा लोक। सेवा आयोग का एग्जाम जो आज होना था वो एक दिन पहले खट्टर सरकार ने कैंसल कर दिया:करण सिंह दलालहरियाणा किलोमीटर स्कीम के घोटाले को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल,उनके मंत्री और बड़े अफ़सर के खिलाफ हम हाई कोर्ट में जाएंगे और उनको सजा दिलवाकर चैन से बैठूंगा:करण सिंह दलाल
 
Haryana

इस राज में बाहर होने से बेहतर है जेल: चौटाला

May 31, 2018 07:00 AM

इस राज में बाहर होने से बेहतर है जेल: चौटाला

संवाद सहयोगी, डबवाली (सिरसा) : पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला बुधवार को अपने पैतृक गांव चौटाला पहुंचे। करीब आधा घंटा तक ग्रामीणों से बातचीत कर हालात जाना। कृषि, व्यापारियों से लेकर राजनीतिक चर्चा की। 1इस मौके पर ग्रामीणों ने कहा कि वे जेल से उनके जल्द वापस आने की दुआ मांगते हैं तो पूर्व मुख्यमंत्री भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि वे किसी शादी में नहीं गए, जो वापस आ जाएंगे। हालांकि इस राज में बाहर होने की अपेक्षा जेल में ही बेहतर हूं। नवंबर 2018 में चुनाव होने हैं। आपका राज बनाने के लिए जरूर आऊंगा। 1पूर्व मुख्यमंत्री ने कृषि के बारे पूछा तो किसानों ने कहा कि नहरों में पानी अब आया है। पहले महंगा तेल फूंककर भूजल से नरमा की बिजाई की है। एक व्यापारी ने जीएसटी का जिक्र छेड़ा तो उन्होंने कहा कि गलत लोगों की सरकार है, इसलिए गलत टैक्स लगाया है। अब तो केवल चार माह की बात है, फिर थारा राज ही आ जाएगा। चौटाला के साथ पूर्व विधायक डॉ. सीता राम आदि मौजूद रहे।1ग्रामीण बोले, गांव में फैल गया है नशा, इसका हल होना चाहिए1पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला के सामने ग्रामीणों ने नशे का मुद्दा उठाया। ग्रामीणों ने कहा कि बहुत से युवा नशे की चपेट में आ चुके हैं। इसका हल होना चाहिए। चौटाला ने इस संबंध में पुलिस कप्तान से बातचीत करके कार्रवाई कराने का आश्वासन दिया।संवाद सहयोगी, डबवाली (सिरसा) : पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला बुधवार को अपने पैतृक गांव चौटाला पहुंचे। करीब आधा घंटा तक ग्रामीणों से बातचीत कर हालात जाना। कृषि, व्यापारियों से लेकर राजनीतिक चर्चा की। 1इस मौके पर ग्रामीणों ने कहा कि वे जेल से उनके जल्द वापस आने की दुआ मांगते हैं तो पूर्व मुख्यमंत्री भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि वे किसी शादी में नहीं गए, जो वापस आ जाएंगे। हालांकि इस राज में बाहर होने की अपेक्षा जेल में ही बेहतर हूं। नवंबर 2018 में चुनाव होने हैं। आपका राज बनाने के लिए जरूर आऊंगा। 1पूर्व मुख्यमंत्री ने कृषि के बारे पूछा तो किसानों ने कहा कि नहरों में पानी अब आया है। पहले महंगा तेल फूंककर भूजल से नरमा की बिजाई की है। एक व्यापारी ने जीएसटी का जिक्र छेड़ा तो उन्होंने कहा कि गलत लोगों की सरकार है, इसलिए गलत टैक्स लगाया है। अब तो केवल चार माह की बात है, फिर थारा राज ही आ जाएगा। चौटाला के साथ पूर्व विधायक डॉ. सीता राम आदि मौजूद रहे।1ग्रामीण बोले, गांव में फैल गया है नशा, इसका हल होना चाहिए1पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला के सामने ग्रामीणों ने नशे का मुद्दा उठाया। ग्रामीणों ने कहा कि बहुत से युवा नशे की चपेट में आ चुके हैं। इसका हल होना चाहिए। चौटाला ने इस संबंध में पुलिस कप्तान से बातचीत करके कार्रवाई कराने का आश्वासन दिया।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
प्रदेश में 3 दिन भारी बारिश के आसार, 13 जिलों में ऑरेंज अलर्ट हरियाणा लोक। सेवा आयोग का एग्जाम जो आज होना था वो एक दिन पहले खट्टर सरकार ने कैंसल कर दिया:करण सिंह दलाल
हरियाणा किलोमीटर स्कीम के घोटाले को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल,उनके मंत्री और बड़े अफ़सर के खिलाफ हम हाई कोर्ट में जाएंगे और उनको सजा दिलवाकर चैन से बैठूंगा:करण सिंह दलाल
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल भष्टाचार में संग्लन है:करण सिंह दलाल
चंडीगढ़:करण सिंह दलाल ने हरियाणा किलोमीटर स्कीम को लेकर खट्टर सरकार पर निशाना साधा
कुलदीप बिश्नोई के डायमंड कारोबार को लेकर घर और प्रतिष्ठानों पर छापे
गुरुग्राम: छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम रमन सिंह सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती PANIPAT - मॉडल टाउन के पॉल ट्रांसपोर्टर घराने को मिला था प्रदेश में 60 बसें चलाने का ठेका, 20 के रेट में धांधली का केस दर्ज हरियाणा उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष बीके कुठियाला भगोड़े घोषित KALKA-अवैध कॉलोनी के लिए काटी डीपीसी, फिर भी नहीं सुधरा भू-माफिया