Tuesday, March 26, 2019
Follow us on
Bachon Ke Liye

स्पीड पर ब्रेक : 5 हजार खिलाड़ियों को 8 माह से नहीं मिली प्रोत्साहन राशि

August 04, 2016 06:29 AM

COURSTEY  DAINIK  BHASKAR  AUG 4

स्पीड पर ब्रेक : 5 हजार खिलाड़ियों को 8 माह से नहीं मिली प्रोत्साहन राशि

चैंपियन बनने की राह पर खिलाड़ियों को खुद खर्च कर बहाना पड़ रहा पसीना, खेल विभाग सरकार से सहयोग मिलने पर खिलाड़ी मायूस
अकेले रोहतक में संचालित नर्सरी
विवेक मिश्र | रोहतक
स्पीड(स्पोर्ट्स एंड फिजिकल एक्सरसाइज इवेल्यूशन एंड डेवलपमेंट) के तहत चयनित प्रदेश के पांच हजार खिलाड़ियों को 8 माह से प्रोत्साहन राशि नहीं मिली है। खेलों का प्रशिक्षण ले रहे अंडर-14 अंडर-19 खिलाड़ियों को खुद कर खर्च कर पसीना बहाना पड़ रहा है। वहीं खेल विभाग सरकार से सहयोग मिलने पर खिलाड़ी मायूस हैं।
प्रदेश के 21 जिलों में 116 नर्सरियां संचालित हैं। प्रत्येक जिले में 10 नर्सरी है जिनमें 5 लड़कों की और 5 लड़कियों की हैं। इन नर्सरियों में हॉकी, फुटबाॅल, वाॅलीबॉल, एथलेटिक्स और तैराकी की ट्रेनिंग दी जाती है। रोहतक जिले में 9 खेल मैदानों पर नर्सरी संचालित हंै, इनमें अंडर 14 19 के 235 खिलाड़ी प्रशिक्षण ले रहे हैं। खेल विभाग के मुताबिक, पहले यह योजना स्पैट के नाम से जानी जाती थी, बाद में इसे बदलकर स्पीड नाम दिया गया। अंडर-14 में चयनित खिलाड़ी को 1400 अंडर-19 ग्रुप में चयनित खिलाड़ियों को दो हजार रुपए प्रतिमाह खर्च के रूप में दिया जाता है, लेकिन 8 माह से खिलाड़ी इससे वंचित हैं। जिला खेल अधिकारी ओमपति मल्हान ने अवकाश पर होने का हवाला देते जानकारी नहीं दी। वहीं, झज्जर के डीएसओ राजदीप सिंह ने बताया कि उनकी ओर से हर माह डाइट आदि की राशि देने के लिए लिखा जाता है, लेकिन उपर से पैसा नहीं आया।
सरकार की ओर से दी जा रही राशि से डाइट पूरी करने में मिल रही थी मदद
सरछोटूराम स्टेडियम ऋषिकुल वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान पर प्रैक्टिस कर रहे खिलाड़ियों ने नाम छापने की शर्त पर बताया कि सरकार द्वारा प्रतिमाह जो राशि दी जा रही थी, उससे हमारी डाइट अन्य खेल संबंधी जरूरतें पूरी हो जाती थीं। जब से राशि मिलना बंद हुई है तब से हम अपने जेब खर्च पर ही निर्भर हैं, ताकि खेल अभ्यास पर असर पड़े। विभाग की उपेक्षा के बाद भी हम लाेग खेलों में अव्वल प्रदर्शन कर गांव, जिला, प्रदेश देश का नाम रोशन करने के लिए अभ्यास करने में जी जान से जुटे हैं।
खिलाड़ी को 22 दिन तक उपस्थित रहना अनिवार्य
चयनितखिलाड़ियों को एक महीने में कम से कम 22 दिन उपस्थित रहना अनिवार्य है। अगर कोई खिलाड़ी अनुशासनहीनता करते मिला तो विभाग द्वारा उस खिलाड़ी की छात्रवृत्ति या मासिक खाना भत्ता वापस लिया जा सकता है। खेल नर्सरियों में प्रशिक्षकों को 15 हजार रुपए मासिक अनुबंध के आधार पर रखा गया है। यह खर्च खेल विभाग वहन करता है।
खेल स्थान खिलाड़ी
कबड्डीसर छोटूराम स्टेडियम 20
एथलेटिक्स राजीव गांधी खेल परिसर 29
कबड्डी राजीव गांधी खेल परिसर, मदीना 28
एथलेटिक्स महम स्टेडियम 28
कुश्ती अखाड़ा मोखरा खड़ी 22
हैंडबाल ऋषिकुल व.मा.वि. बसाना 48
एथलेटिक्स जेके एसएस स्कूल, कलानौर 22
कुश्ती जीके पब्लिक स्कूल, कटेसरा 21
बास्केटबाॅल एसपीसी किलोई 17

 
Have something to say? Post your comment
 
More Bachon Ke Liye News
Amazon CEO Jeff Bezos, wife to split गलत कंटेंट खुद ही हट जाए, ऐसा सिस्टम बनाने के करीब फेसबुक बंसी, भजन व हुड्डा से बिगाड़ी, कहीं मनोहर से न बिगड़ जाए : राव इंद्रजीत जींद उपचुनाव में बीजेपी का होगाा कड़ा इम्तिहान, सामने है चैलेंज प्रधानमंत्री जी 10 लाख मोहल्ला क्लीनिक खोलें और हमें 1000 खोलने दें: केजरीवाल HARYANA-Serving DCs laud move, retired babus see ‘plot’
चंडीगढ़ : सेक्रेड हार्ट सीनियर सेकेंडरी स्कूल की कॉमर्स की छात्रा सुमिति गाबा ने 94 प्रतिशत नम्बर हासिल किए
HARYANA CASH FOR JOB SCAM-सेक्रेटरी ने पूछे थे चार उम्मीदवारों के नंबर ASK THE SEXPERT मनोहर लाल ने आज गुरुग्राम के विधायक उमेश अग्रवाल के निवास पर पहुंचकर उनके पिता स्वर्गीय श्री मोतीराम अग्रवाल के स्वर्गवास पर गहरा दुख जताया।